26/11 के एक वकील की हत्या

Image caption आज़मी की हत्या मुंबई हमलों से जुड़े होने की वजह से हुई या कोई और वजह थी ये स्पष्ट नहीं है.

नवंबर 2008 में मुंबई में हुए हमलों के तीन मुख्य अभियुक्तों में से एक के वकील शाहिद आज़मी की गोली मारकर हत्या कर दी गई है.

अज्ञात हमलावरों ने शाहिद आज़मी को उत्तरी मुंबई के कुर्ला स्थित उनके दफ़्तर में गोली मारी और फ़रार हो गए.

शाहिद आज़मी मुंबई हमले के एक अभियुक्त फ़हीम अंसारी के वकील थे.

फ़हीम अंसारी पर सबाहुद्दीन अहमद के साथ मिलकर मुंबई के हमलावरों की मदद करने का आरोप है. इस हमले में 165 बेगुनाह मारे गए थे.

फ़हीम अंसारी और सबाहुद्दीन अहमद के ख़िलाफ पाकिस्तानी नागरिक मोहम्मद अजमल आमिर कसाब के साथ मुंबई हमले में शामिल होने का मुकदमा चल रहा है.

जांच

अभी तक ये पता नहीं चल पाया है कि शाहिद आज़मी की हत्या मुंबई केस से जुड़े होने की वजह से की गई है या फिर इसके पीछे कोई और वजह थी.

पुलिस अधीक्षक देवेन भारती ने बताया ‘‘हम हमलावरों की पहचान करने की कोशिश कर रहे हैं. हमें कुछ सुराग भी मिले हैं.’’

करीब 35 वर्ष के शाहिद आज़मी कई हाई प्रोफ़ाइल मामलों में बचाव पक्ष के वकील थे. 2006 में मुंबई में ट्रेन में हुए धमाकों के मामले में भी वे बचाव पक्ष के वकील थे। इस हमले में 187 लोग मारे गए थे.

संबंधित समाचार