विरोध के बीच रिलीज़ हुई 'माई नेम इज़ ख़ान'

Image caption पिछले कई दिनों से मुंबई में माई नेम इज़ ख़ान के पोस्टर फाड़े और जलाए जा रहे हैं.

शाहरूख़ ख़ान की नई फ़िल्म 'माई नेम इज़ ख़ान' शुक्रवार को रिलीज़ हो गई है.

शिव सेना के विरोध को देखते हुए मुंबई में मल्टिप्लेक्स मालिकों ने कड़ी सुरक्षा के बीच फ़िल्म दिखाने का फ़ैसला किया है.

इससे पहले कुछ सिनेमाघरों में सुबह के शो में इस फ़िल्म को नहीं दिखाने का फ़ैसला किया था.

इसके बाद सिनेमाघर के मालिकों की बैठक हुई जिसमें कुछ मल्टिप्लेक्स मालिक शर्तों के साथ फ़िल्म दिखाने पर राज़ी हुए.

फ़िल्म के प्रदर्शन के दौरान सिनेमाघर के बाहर और अंदर दोनों जगह सुरक्षाकर्मी तैनात रहेंगे और मल्टिप्लेक्स के किसी एक ऑडिटोरियम में ही फ़िल्म दिखाई जाएगी.

मुंबई के अलावा अहमदाबाद और दिल्ली में फ़िल्म के विरोध में कुछ लोग सड़कों पर उतर आए, हालाँकि इसका फ़िल्म के प्रदर्शन पर कोई ख़ास असर नहीं हुआ.

दिल्ली के जनकपुरी स्थित सत्यम सिने कंप्लेक्स में गुरुवार देर रात कुछ लोग घुस गए और फ़िल्म के पोस्टर फाड़ डाले. उन्होंने खिड़कियों के काँच भी तोड़ दिए.

शिवसेना शाहरुख़ ख़ान के उस बयान से नाराज़ है जिसमें उन्होंने पाकिस्तान के क्रिकेट खिलाड़ियों को इंडियन प्रीमियर लीग यानि आईपीएल के लिए न चुने जाने पर आईपीएल की आलोचना की थी.

चव्हाण का आश्वासन

Image caption ऑटिज़्म पर बनी ये फ़िल्म पूरे देश में शुक्रवार को रिलीज़ हो रही है.

महाराष्ट्र के मुख्य मंत्री अशोक चव्हाण ने शिवसेना की धमकियों के ख़िलाफ़ सुरक्षा का आश्वासन दिया है.

फ़िल्म के निर्माता करण जौहर ने सोशल नेटवर्किंग वेबसाइट ट्विटर पर उन्होंने लिखा है,"फ़िल्म की रिलीज़ में कोई बदलाव नहीं है. कृपया अफ़वाहों पर यकीन नहीं करें.’’

मुख्यमंत्री चव्हाण ने पत्रकारों से कहा है कि सरकार सुरक्षा की गारंटी लेती है लेकिन वो सिनेमा मालिकों को फ़िल्म दिखाने के लिए बाध्य नहीं कर सकती.

उनका कहना था,"सरकार फ़िल्म के प्रचार के लिए नहीं है, सरकार की चिंता क़ानून व्यवस्था बनाए रखने की है. हमने सुरक्षा मुहैया कराकर अपनी ज़िम्मेदारी पूरी कर दी है.’’

मुंबई के पुलिस कमिश्नर डी शिवानंदन ने कहा है कि सिनेमाघरों को पूर्ण सुरक्षा प्रदान की जाएगी और ज़रूरत पड़ने पर अतिरिक्त सुरक्षाबल भी लगाए जाएंगे.

धमकी

शिवसेना ने पाकिस्तानी खिलाड़ियों के पक्ष में बयान देने पर शाहरुख़ ख़ान से माफ़ी मांगने को कहा था लेकिन शाहरुख़ ख़ान ने ये कहकर माफ़ी मांगने से इनकार कर दिया कि उन्होंने कोई ग़लत बात नहीं की थी.

लगातार चल रहे प्रदर्शनों के बीच शिवसेना के सांसद और प्रवक्ता संजय राउत ने चेतावनी जारी करते हुए कहा है, ``भारी सुरक्षा के बावजूद 12 तारीख़ को क्या होगा ये देखने के लिए इंतज़ार करें.’’

लगभग दो हज़ार शिवसैनिक अब तक गिरफ़्तार किए जा चुके हैं.

कुछ टेलीविज़न चैनल सूत्रों के हवाले से कह रहे हैं कि शाहरूख ख़ान और शिवसेना के बीच समझौते की कोशिशें भी चल रही हैं और कई सिनेमाघर के मालिक शुक्रवार की सुबह ही ये फ़ैसला करेंगे कि फ़िल्म दिखाई जाए या नहीं.

संबंधित समाचार