एमएनएस नेता की 'वैलेंटाइन डे' फ़िल्म

गीत का विमोचन
Image caption एमएनएस के उपाध्यक्ष वागीश सारस्वत वैलेंटाइन पर एक फ़िल्म बना रहे हैं.

इस साल का वैलेंटाइन डे महाराष्ट्र में प्यार करने वालों के लिए ख़ुशख़बरियों वाला है, क्योंकि हर साल जहाँ वैलेंटाइन डे पर शिवसेना कार्यकर्ता प्यार करने वालों को मारा पीटा करते थे वहीं इस साल महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के एक वरिष्ठ नेता ने अपनी आने वाली फ़िल्म के एक प्रेम गीत का विमोचन किया है.

'जुलूस- एक राजनीतिक प्रेम कथा' नामक इस फ़िल्म की अभी स्टार कास्ट तय नहीं की गई है. लेकिन वैलेंटाइन डे के ठीक एक दिन पहले एमएनएस के उपाध्यक्ष वागीश सारस्वत ने अपनी फ़िल्म के गीत का विमोचन करके प्यार करने वालों को तोहफ़ा ज़रूर दिया है.

सारस्वत कहते है, "एमएनएस पार्टी कभी भी प्यार करने वालों के ख़िलाफ़ नहीं थी. हमारी पार्टी मारधाड़ के लिए नहीं जानी जाती है, बल्कि आक्रामक है. एमएनएस जिस काम को हाथ में लेती है उसे पूरा ही करके छोड़ती है."

वागीश सारस्वत अपनी फ़िल्म के बारे में कहते हैं, "यह मेरी अपनी फ़िल्म है, किसी पार्टी की नहीं. इससे मेरी पार्टी का कोई लेना-देना नहीं है. इस फ़िल्म पर मैं पिछले तीन साल से काम कर रहा हूँ. यह फ़िल्म किसी सत्यकथा पर आधारित नहीं है हालाँकि कुछ वाक़ए ज़रूर सच्चे लिए गए हैं."

गीत का मुखड़ा

Image caption विमोचन में एमएनएस का कोई बड़ा नेता मौजूद नहीं था

सारस्वत इस फ़िल्म के लेखक के साथ ही निर्देशक भी हैं. गीत का मुखड़ा 'यू आर माइ वैलेंटाइन' है और इस गीत को गाया है नेहा राजपाल ने.

गीत के बारे में नेहा कहती हैं, "यह गाना गाकर बहुत ख़ुशी हुई. मेरे लिए मेरा गीत महत्व रखता है न कि मैं किस पार्टी के नेता के फ़िल्म के लिए गा रही हूँ. मेरे ख़्याल से यह किसी पार्टी की फ़िल्म नहीं है बल्कि वागीशजी की है."

गीत के विमोचन के कार्यक्रम में चौंकाने वाली बात यह नज़र आई कि एमएनएस के एक नेता अखिलेश चौबे के अलावा और कोई बड़ा चेहरा दिखाई नहीं दिया.

वो कहते है, "मुझे पार्टी के लोगों को बुलाकर कोई विवाद नहीं खड़ा करना था. अगर मैंने लोगो को न्योता दिया होता तो वे ज़रूर आते."

इस फ़िल्म को पांच महीने के अंदर सिनेमाघरों तक पहुँचाने का वादा करने वाले वागीश कहते है,"इस फ़िल्म की कहानी देश के कई हिस्सों से जुडी है इसलिए इसे हिंदी में बनाया जा रहा है."

उन्होंने कहा कि इस फ़िल्म को पूरे देश के लोग अच्छी तरह समझ सकें इसलिए इसे मराठी में नहीं बनाया जा रहा है.

संबंधित समाचार