चरमपंथी निर्देश देने की कोशिश न करें: चिदंबरम

पी चिदंबरम
Image caption भारतीय गृह मंत्री सभी खिलाड़ियों को सुरक्षा का आश्वासन दिया

हॉकी विश्व कप और आईपीएल में हिस्सा लेने वाले खिलाड़ियों की सुरक्षा का आश्वासन देते हुए गृह मंत्री पी चिदंबरम ने बुधवार को कहा कि चरमपंथी भारत सरकार को निर्देश दे, इस बात की छूट नहीं दी जा सकती.

उनका कहना था,''इलियास कश्मीरी हमें ये नहीं बता सकते कि हमें क्या करना चाहिए.''

जम्मू में पत्रकारों से बातचीत करते हुए चिदंबरम ने कहा कि हॉकी विश्व कप और इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) में हिस्सा लेने वाले सभी खिलाड़ियों को सुरक्षा प्रदान की जाएगी.

उल्लेखनीय है कि ऐसी ख़बरें आईं थीं कि अल क़ायदा से जुड़े चरमपंथी संगठन हरकत उल जिहाद अल इस्लामी (हूजी) के इलियास कश्मीरी ने भारत जाने वाले विदेशी खिलाड़ियों को चेतावनी दी थी.

सुरक्षा व्यवस्था की समीक्षा

चिदंबरम ने भारत प्रशासित जम्मू कश्मीर में एकीकृत कमान की समीक्षा भी की. वे राज्य के सुरक्षा इंतज़ाम से संतुष्ट थे.

चिदंबरम ने कहा कि इस साल 45 दिनों में 65 घटनाएँ हुईं जिनमें सात आम नागरिक, नौ सुरक्षाकर्मी और 24 चरमपंथी मारे गए.

उनका कहना था कि इस साल हिंसक घटनाओं में बढ़ोत्तरी हुई है.

गृह मंत्री का कहना था कि धीरे धीरे सुरक्षाबलों की स्थिति मज़बूत होती जा रही है.

'पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर' चले गए चरमपंथियों की वापसी पर उन्होंने कहा कि राज्य सरकार से इस बारे में एक मसौदा तैयार कर भेजने को कहा गया है.

इसके पहले दिल्ली में चिदंबरम ने कहा था कि कोई भी भारतीय जो पाक अधिकृत कश्मीर (पीओके) में चला गया हो और वापस लौटना चाहता हो, तो इसका स्वागत है.

उल्लेखनीय है कि जम्मू कश्मीर के मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने भारत प्रशासित कश्मीर से 90 के दशक में नियंत्रण रेखा पार करके पाक प्रशासित कश्मीर में चले गए कश्मीरियों के लिए 'आत्मसमर्पण की नीति' का प्रस्ताव रखा था.

संबंधित समाचार