मूल्य वृद्धि वापस नहीं होगी: मनमोहन

Image caption मनमोहन सिंह ने पेट्रोलियम उत्पादों की कीमतें वापस लेने से इनकार किया है

प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने स्पष्ट किया है कि पेट्रोल और डीजल की कीमतों में की गई बढ़ोत्तरी वापस नहीं ली जाएगी.

सऊदी अरब की यात्रा से लौटते हुए विमान में पत्रकारों से बातचीत में उन्होंने कहा कि अर्थव्यवस्था में इस बढ़ोत्तरी को समायोजित करने की क्षमता है और इससे महंगाई नहीं बढ़ेगी.

मनमोहन सिंह का कहना था,''कीमतों में बढ़ोत्तरी से कुछ लोगों को परेशानी होती है लेकिन हमें दूर की सोचनी है.''

उनका कहना था कि यदि हम सभी लोकप्रिय कदम उठाते रहे तो हम लोगों को महंगाई से नहीं बचा पाएँगे.

इसके पहले बजट के बाद मनमोहन सिंह ने कहा था कि बजट देश को नौ फ़ीसदी विकास दर के पुराने लक्ष्य को हासिल करने की ओर ले जाने में मदद करेगा और एक बेहतर क़दम है.

प्रधानमंत्री ने वित्त मंत्री प्रणब मुखर्जी की तारीफ़ करते हुए कहा था कि ये बेहद अच्छा बजट है. उनकी टिप्पणी थी- जॉब वेल डन यानी काम को अच्छे तरीके से अंजाम दिया.

ग़ौरतलब है कि वित्त मंत्री प्रणब मुखर्जी के बजट भाषण के दौरान पूरे विपक्ष ने वॉकआउट किया था और इसे ग़रीब विरोधी बजट करार दिया था.

ये वॉकआउट पेट्रोलियम पदार्थों पर ड्यूटी में बढ़ोत्तरी के विरोध में किया गया था और साथ ही ये चेतावनी भी दी गई थी कि जब तक इस फ़ैसले को वापस नहीं लिया जाता तब तक संसद को चलने नहीं दिया जाएगा.

विपक्ष की नेता सुषमा स्वराज ने बहिष्कार के बाद पत्रकारों से कहा, “सरकार के इस क़दम से पेट्रोल और डीज़ल की कीमतें बढ़ेंगी और इससे आम आदमी सीधे तौर पर प्रभावित होगा.”

बजट के बॉयकॉट में भारतीय जनता पार्टी को आरजेडी और वामदलों का भी साथ मिला था.

संबंधित समाचार