महिला आरक्षण विधेयक में संशोधन संभव

शरद पवार
Image caption शरद पवार ने विधेयक पारित कराने की अपील की.

एनसीपी नेता शरद पवार ने महिला आरक्षण विधेयक के मुखर विरोधी मुलायम, लालू और शरद यादव को मनाने की कोशिश की है.

उन्होंने पुणे में पत्रकारों को बताया कि इन तीनों नेताओं से विधेयक के मुद्दे पर उनकी बात हुई है.

शदर यादव के मुताबिक उन्होंने आरक्षण का विरोध कर रहे नेताओं को बताया है कि इसमें पिछड़ी जातियों और अल्पसंख्यकों के लिए आरक्षण की माँग पर सरकार विचार कर सकती है.

उनका कहना था, “हमारी तीनों यादव नेताओं से हुई है. मैंने उन्हें बताया है कि पिछड़ी जातियों और अल्पसंख्यकों को आरक्षण देने के लिए विधेयक में संशोधन किया जा सकता है.”

शरद यादव ने कहा कि विधेयक पर सर्वसम्मति बनाने के लिए आरक्षण की सीमा 33 फ़ीसदी से कम करने पर विचार हो सकता है.

मुलायम फिर बरसे

एनसीपी नेता ने कहा कि विरोधियों को अपना पक्ष रखने का अधिकार है लेकिन उन्हें इस ऐतिहासिक विधेयक को पारित कराने में बाधक नहीं बनना चाहिए.

उन्होंने कहा कि केंद्रीय वित्त मंत्री प्रणब मुखर्जी सदन में कह चुके हैं कि इस मसले पर सभी पक्षों को विश्वास में लिया जाएगा.

इस बीच समाजवादी पार्टी के नेता मुलायम सिंह यादव ने लखनऊ में कहा है कि इस विधेयक के पारित होने के बाद संसद में पुरुष सदस्यों की संख्या नगण्य रह जाएगी.

उन्होंने तर्क दिया कि विधेयक पारित होने के बाद पहले चुनाव में 33 फ़ीसदी सीटों पर महिलाओं काबिज होंगी और उसके अगले चुनाव में आरक्षित सीटों को बदला जाएगा लेकिन जीती हुई महिलाएँ अपनी पुरानी सीट से चुनाव लड़ेंगी, इस तरह तीन चुनावों के बाद संसद में महिला सदस्यों की संख्या 80 से 85 फ़ीसदी होगी.

संबंधित समाचार