बस दुर्घटना में 26 छात्रों की मौत

बस दुर्घटना
Image caption दुर्घटना में कई लोग घायल भी हुए हैं

राजस्थान के सवाई माधोपुर ज़िले में मोरेल नदी में एक बस के गिरने से 26 विद्यार्थियों के मरने की आशंका है और कई घायल हुए हैं. मरने वालों में 11 लड़कियाँ और 15 लड़के हैं.

दुर्घटना में 34 लोग घायल हैं, जिनमें से पाँच की हालत गंभीर है. गंभीर रूप से घायल लोगों को कोटा अस्पताल में दाखिल कराया गया है.

जबकि 29 घायलों को सवाई माधोपुर के ज़िला अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

सवाई माधोपुर के पुलिस अधीक्षक विकास कुमार ने 26 मौतों की पुष्टि कर दी है.

दुर्घटना

पुलिस के मुताबिक़ दुर्घटना उस समय हुई, जब तड़के तीन बजे मोरेल नदी पर बनी पुलिया को पर कर रही बस के चालक ने नियंत्रण खो दिया और बस 35 फीट नीचे सूखी नदी में जा गिरी. उस समय ज़्यादातर यात्री सो रहे थे.

हादसे की सूचना मिलते ही सवाई माधोपुर से अधिकारी पुलिस बल के साथ मौक़े पर पहुँच गए और रहत और बचाव का काम शुरू किया.

पुलिस के मुताबिक़ ये विद्यार्थी झालावाड़ की एक बीऐड कॉलेज के थे और हाल में ही उत्तर प्रदेश में धार्मिक स्थलों की यात्रा के लिए निकले थे.

ये बस इन छात्रों को मथुरा-वृंदावन से लेकर लौट रही थी. हादसे के शिकार छात्र-छात्राएँ राज्य के हाडोती संभाग से थे. शवों की पहचान का काम किया जा रहा है.

सहायता

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने हादसे में जान गवाँ बैठे लोगो के परिजनों को 50-50 हज़ार रूपए की सहायता देने का ऐलान किया है और घटना पर अपनी संवेदना व्यक्त की है.

सरकार ने घायलों के इलाज का भी आदेश दिया है और अपने राज्य मंत्री अशोक बैरवा को मौक़े पर भेजा है.

पुलिस के अनुसार बस में 62 लोग सवार थे. अभी इस बस के चालक और परिचालक के बारे में कोई ख़बर नहीं है. पुलिस ने हादसे के बारे मे परिजनों को सूचना देने के लिए एक नियंत्रण कक्ष भी स्थापित किया है.

टेलीफ़ोन नंबर 07462-220033 पर नियंत्रण कक्ष से संपर्क स्थापित किया जा सकता है.

स्थानीय लोगों के मुताबिक़ बस के नदी में गिरते ही उसके परखच्चे उड़ गए.

इस हादसे के बाद राज्य के झालावाड़ और बारां ज़िलों में शोक की लहर दौड़ गई. क्योंकि हादसे में मारे गए ज़्यादातर इन्हीं दो ज़िलों के रहने वाले थे.

संबंधित समाचार