हिंसा के बीच नक्सलियों का बंद

माओवादी के ख़िलाफ़ ग्रीन हंट
Image caption माओवादियों ने केंद्र के आपरेशन ग्रीन हंट के ख़िलाफ़ इस बंद का आह्वान किया है

माओवादियों के सात राज्यों में जारी बंद का छिटपुट असर देखा जा रहा है. बंद के दौरान माओवादियों ने कई स्थानों पर रेलवे पटरियाँ उड़ा दी हैं.

48 घंटे का बंद सोमवार से ही जारी है. बिहार की पुलिस के मुताबिक़ गया के निकट संदिग्ध माओवादियों ने रेल पटरी को उड़ा दिया है. इस घटना में भुवनेश्वर-नई दिल्ली राजधानी एक्सप्रेस के सात डिब्बे पटरी से उतर गए हैं.

माओवादियों ने केंद्र के आपरेशन ग्रीन हंट के ख़िलाफ़ इस बंद का आह्वान किया है. यह बंद बिहार, पश्चिम बंगाल, झारखंड, छत्तीसगढ़, उड़ीसा, महाराष्ट्र और आंध्र प्रदेश में किया जा रहा है.

बंद का सबसे अधिक असर झारखंड के देहात में देखा जा रहा है. झारखंड में रांची, धनबाद, जमशेदपुर जैसे शहरों को छोड़कर दूसरे शहरों और देहात में बंद का ख़ासा असर है. सड़क और रेल यातायात प्रभावित है और दूकानें बंद हैं.

झारखंड

रांची से बीबीसी संवाददाता सलमान रावी का कहना है कि राज्य में कई स्थानों पर छिटपुट हिंसक वारदातें हुई हैं और माओवादियों ने कई जगहों पर रेलवे पटरियां उड़ा दी हैं.

राज्य के सराय क़िला खरसावां ज़िले में माओवादियों और पुलिस के बीच मुठभेड़ में एक जवान मारा गया और दो घायल हुए हैं.

लातेहार और पूर्वी सिंहभूम ज़िलों में माओवादियों ने रेलवे पटरियाँ उड़ा दीं हैं. पुलिस का कहना है कि रांची और टाटा नगर के बीच चौका में कैन बम मिला है.

सलमान रावी के अनुसार बंद के कारण ट्रेनों के मार्ग बदले गए हैं और कई ट्रेनें रद्द कर दी गई हैं. पलामू से होकर गुज़रने वाली रात की सभी ट्रेनों को रद्द कर दिया गया है.

समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार संदिग्ध माओवादियों ने बोकारो के चार कारोबारियों का अपहरण कर लिया है.

बिहार

पटना से बीबीसी संवाददाता मणिकांत ठाकुर का कहना है कि राज्य में बंद का कोई ख़ास असर नहीं देखा जा रहा है, लेकिन कई ट्रेनों के मार्ग बदले गए हैं और झारखंड के रास्ते से गुज़रने वाले ट्रकों के आवागमन में बाधा हो रही है.

समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार बिहार के सीतामढ़ी ज़िले के बेलसंड में जब हथियारबंद माओवादियों ने दूकानें बंद कराने की कोशिश की तो पुलिस ने फ़ायरिंग की जिसमें दो माओवादी ज़ख़्मी हुए हैं.

इस मुठभेड़ में पुलिस के जवानों को भी गोली लगी है और वो घायल हैं.

सीतामढ़ी के पुलिस अधिक्षक अनवर हुसैन का कहना है कि बेलसंड बाज़ार पर पांच सौ से अधिक हथियार बंद माओवादियों ने हमला किया था.

संबंधित समाचार