कश्मीर में रेलमार्ग बना निशाना

कश्मीर में सुरक्षा इंतज़ाम

भारत प्रशासित कश्मीर में चरमपंथियों ने पहली बार रेल यातायात को अपना निशाना बनाया है जिसके बाद से घाटी में रेल यातायात की सुरक्षा को लेकर चिंता बढ़ गई है.

गुरुवार की रात अवंतीपुरा और काकपोरा के बीच हमलावरों ने एक बारूदी सुरंग का विस्फोट करके रेल की पटरी को उड़ा दिया.

हालांकि रात को रेल यातायात न होने के कारण किसी तरह की दर्घटना होने से रह गई लेकिन हाल के वर्षों में शुरू हुए रेल यातायात पर इस पहले हमले ने चिंता बढ़ा दी है.

पिछले लगभग डेढ़ वर्षों से घाटी में उत्तरी कश्मीर और दक्षिण कश्मीर को जोड़ने के लिए रेल यातायात चल रहा है. अक्टूबर 2008 में इसकी शुरुआत हुई थी.

लेकिन तब से अबतक रेल यातायात को चरमपंथियों ने निशाना नहीं बनाया था.

पुलवामा के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक कैफ़ियत हैदर ने बीबीसी को बताया कि हमला रात के वक़्त किया गया और देर रात इसकी जानकारी मिल गई थी.

रेलवे पर निशाना

उन्होंने बताया कि यह एक ज़बर्दस्त विस्फोट था. धमाके की वजह से एक फ़ीट, आठ इंच की पटरी उड़ गई है और धमाके की जगह पर एक गड्ढा भी हो गया है.

उन्होंने बताया कि रात को रेल यातायात न होने के कारण किसी भी अप्रिय घटना की नौबत नहीं आई लेकिन दिन में भी ट्रैक की जाँच के बाद ही रेलगाड़ी आगे बढ़ती है.

बताया जा रहा है कि शुक्रवार को दोपहर बाद रेल यातायात इस ट्रैक पर फिर से बहाल हो सकेगा और तबतक मरम्मत का काम पूरा कर लिया जाएगा.

अभी तक किसी भी चरमपंथी संगठन या व्यक्ति ने इस हमले की ज़िम्मेदारी नहीं ली है और सेना या पुलिस के पास भी इस बारे में कोई जानकारी देने के लिए नहीं है.

संबंधित समाचार