गूजरों को बातचीत के आमंत्रित किया

गुजर आंदोलन
Image caption गूजरों का आंदोलन कई बार हिंसक हो उठा है

राजस्थान सरकार ने गूजर नेता किरोड़ी सिंह बैंसला को आरक्षण के मुद्दे पर बातचीत के लिए आमंत्रित किया है.

गूजर राज्य सरकार की नौकरियों में पाँच फ़ीसदी आरक्षण की माँग को लेकर आंदोलनरत हैं.

मुख्यमंत्री के प्रवक्ता ने रविवार रात को बताया कि मुख्यमंत्री अशोक गहलौत ने गूजर नेताओं को बातचीत के लिए आमंत्रित किया है.

उनका कहना था कि गूजर नेता बैंसला को ये संदेश दे दिया गया है, वो हिंडौन में पड़ाव डाले बैठे है.

इधर गूजरों के प्रवक्ता रूप सिंह ने बताया कि सरकार से बातचीत के लिए 11 सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल पहुँच रहा है, लेकिन तब तक आंदोलन जारी रहेगा.

इधर राज्य सरकार ने राष्ट्रीय राजमार्ग और रेल मार्ग में कोई बाधा न आए, इसके लिए विशेष उपाय किए हैं.

पिछली बार आंदोलन के दौरान गूजरों ने मुंबई-दिल्ली रेल मार्ग बाधित कर दिया था.

सरकार की पेशकश

राजस्थान सरकार आश्वासन देती आई है कि वह हाईकोर्ट के बंधन के कारण गूजरों की पाँच फीसदी आरक्षण की माँग को छोड़कर अन्य माँगों को मानने को तैयार है.

सरकार का कहना है कि गूजर समुदाय कहे तो सरकार इस मामले में सुप्रीम कोर्ट भी जा सकती है.

इसके पहले राजस्थान हाईकोर्ट ने सरकार को गूजर आंदोलन के दौरान जन-धन की हिफ़ाजत के पुख्ता उपाय करने को कहा था.

गूजर नेताओं ने 23 मार्च से आरक्षण की अपनी मांग को लेकर फिर से आंदोलन शुरू कर दिया था.

राजस्थान ने हाल के वर्षो में दो बड़े गूजर आंदोलन देखे हैं.

इनमें कोई 70 लोग मारे गए थे और बड़े पैमाने पर हिंसा हुई थी और सरकारी संपत्ति को नुक़सान पहुँचाया गया था.

संबंधित समाचार