'कोच्चि के मालिकों को लेकर भ्रम'

थरुर और मोदी
Image caption कोच्चि को लेकर थरुर और मोदी की ठनी हुई है.

आईपीएल के आयुक्त ललित मोदी ने साफ़ कहा है कि नई टीम कोच्चि के मालिकों को लेकर भ्रम की स्थिति है और वो इस बारे में उठे विवाद पर अपनी बात आईपीएल की गवर्निंग काउंसिल के समक्ष रखेंगे.

आईपीएल के विशेष अवार्डों समारोह की घोषणा के दौरान पत्रकारों ने जब मोदी से कोच्चि टीम को लेकर उठे विवादों पर सवाल पूछे तो उन्होंने इस पर कुछ भी कहने से इंकार कर दिया.

कई पत्रकारों के सवालों के जवाब में मोदी ने कहा, ‘‘ कोच्चि की टीम ने जब दावा किया था तब भी उनके मालिकों को लेकर भ्रम की स्थिति थी. पूरी जानकारी नहीं दी गई थी. आईपीएल के बाकी टीमों को लेकर हम सभी को जानकारी है. मैं इससे अधिक कुछ नहीं कहना चाहूंगा. ’’

उन्होंने कहा, ‘‘ कोच्चि टीम के शेयरधारकों को भी नहीं पता था कि मालिकाना हक किसका है. किसी को पता नहीं कि वो हैं कौन. ’’

मोदी ने कहा कि वो इस बारे में आईपीएल की गवर्निंग काउंसिल की बैठक में अपनी बात रखेंगे.

उनका कहना था, ‘‘ आईपीएल बहुत बड़ा आयोजन है और इसके साथ विवाद जुड़ना लाजिमी है लेकिन ये हमारे लिए छोटी बात है.’’

उल्लेखनीय है कि कोच्चि की टीम से विदेश राज्य मंत्री शशि थरुर की मित्र सुनंदा पुष्कर जुड़ी हुई हैं और सुनंदा के इसमें 70 करोड़ रुपए लगे हैं.

इसके अलावा कोच्चि टीम में कई ऐसे शेयरधारक हैं जिनके बारे में जानकारी कम है. थरुर का आरोप है कि मोदी ने कोच्चि टीम का विरोध किया था और वो कोच्चि के स्थान पर अहमदाबाद को यह मौका देना चाहते थे.

यह विवाद अब तूल पकड़ चुका है और भारतीय जनता पार्टी ने जहां शशि थरुर के इस्तीफ़े की मांग की है वहीं बीसीसीआई ने मोदी को पत्र लिखा था.

संबंधित समाचार