मेहमानों के लिए तैयार ओबरॉय

मुंबई शहर का एक बड़ा लैंडमार्क समझे जाने वाला ओबरॉय होटल 2008 के मुंबई हमलों के बाद फिर से मेहमानों का स्वागत करने के लिए तैयार है. शनिवार को इसे दोबारा खोल दिया गया है.

18 महीने पहले मुंबई में हुए हमलों में ओबरॉय होटल को भी निशाना बनाया गया था और इसे काफ़ी ज़्यादा नुकसान पहुँचा था.

हमले में नौ बंदूकधारियों समेत 174 लोग मारे गए थे जिसमें ओबरॉय होटल के तीस से ज़्यादा कर्मचारी और मेहमान थे.

बंदूकधारियों ने होटल में अंधाधुँध गोलीबारी की थी और होटल का लगभग हर कमरा नष्ट हो गया था.

ओबरॉय होटल्स एंड रिसॉर्ट्स के प्रमुख लियम लैम्बर्ट ने बताया, “होटल का हर कमरा नष्ट हो गया था. कई धमाके हुए थे. आग, धुँए या पानी के कारण हर कमरा प्रभावित हुआ था.”

करीब तीन करोड़ पचास लाख डॉलर की लागत से अब इसे दोबारा ठीक किया गया है. होटल में प्रवेश करते ही मार्बल का फ़र्श, सुनहरी टाइलें और दीवारों पर क्रीम रंग की नई-नवेली परत दर्शाती है कि होटल को नया रंग-रूप देने में कोई कसर नहीं छोड़ी गई है.

नए रंग रूप में होटल

कभी गोलीबारी की आवाज़ से गूँजने वाले इस होटल में अब पियानो की मधुर स्वरलहरियाँ सुनाई दे रही हैं.

प्रबंधन का कहना है कि इस सप्ताहांत रेस्तरां पूरी तरह बुक हैं और उम्मीद जताई है कि होटल में पहले की तरह ही मेहमानों का आना-जाना होगा.

बुधवार को ये घोषणा की गई थी कि ओबरॉय होटल 24 अप्रैल को दोबारा खुलेगा.

इसी हफ़्ते ऑबरॉय होटल में सर्व-धर्म प्रार्थना सभा आयोजित की गई थी.

होटल के 81 वर्षीय मालिक पीआरएस ओबरॉय का कहना है कि होटल में लाए गए तमाम बदलाव बेहद ज़रूरी थे- न सिर्फ़ बिज़नेस के लिए बल्कि भावनात्मक नज़रिए से भी.

उन्होंने कहा, “हमें उम्मीद है कि होटल के नए कमरे अपने पुराने उपभोक्ताओं को आकर्षित करेंगे और साथ ही कुछ नए मेहमान भी आएँगे. शुरुआती संकेत तो यही हैं कि बहुत सारे पुराने मेहमाने यहाँ आना चाहते हैं.”

मुंबई हमले में ट्राइडेंट और ताज होटल को भी नुकसान पहुँचा था.

संबंधित समाचार