आईपीएल का तोहफ़ा चाहिए सचिन को

मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर ने शनिवार को अपना 37वां जन्मदिन मनाया है.

अब जन्मदिन के एक दिन बाद ही उनकी टीम मुंबई इंडियंस का आईपीएल के फ़ाइनल में चेन्नई के साथ मुकाबला है. एक इंटरव्यू में सचिन ने कहा है कि उनकी तमन्ना है कि वे जन्मदिन की ख़ुशी इस ख़िताब को जीतकर मनाए.

क्रिकेट में सचिन के योगदान को इसी बात से आँका जा सकता है कि वे पिछले 20 सालों से मैदान पर लगातार अपना जलवा दिखा रहे हैं और उनका फॉर्म देखकर लगता है कि वे अभी थमने के मूड में नहीं हैं.

वर्ष 1989 में भारत के लिए पहली बार सचिन अंतरराष्ट्रीय स्तर पर खेले थे और तब से लेकर अब तक सचिन के करियर में कई उतार चढ़ाव आए हैं.

इस दौरान उनके नाम अवॉर्डों और रिकॉर्डों की मानो झड़ी ही लग गई. नित नए रिकॉर्ड बनाना और उन्हें तोड़ना सचिन की फ़ितरत बन चुकी है.

रिकॉर्ड ही रिकॉर्ड

जन्मदिन से एक दिन पहले ही हुए आईपीएल अवॉर्ड में भी सचिन का बोलबाला रहा. उन्हें आईपीएल-3 के लिए सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाज़ घोषित किया गया है.

ऐसा नहीं है कि सचिन को आलोचना न झेलनी पड़ी हो लेकिन हर आलोचना का जवाब सचिन ने अपने बल्ले से दिया है.

चाहे वनडे हो, टेस्ट क्रिकेट हो या फिर ट्वेन्टी-20 –हर फ़ॉर्मेट में सचिन ने बेहतरीन खेल का प्रदर्शन किया है.

अब तक 442 वनडे खेल चुके सचिन ने कुल 17598 रन बनाए हैं तो 166 टेस्ट मैचों में उन्होंने 13447 रन जड़े हैं.

वनडे मैच में दोहरा शतक जड़ने का रिकॉर्ड भी सचिन के नाम है. इस साल फ़रवरी में ग्वालियर में दक्षिण अफ़्रीका के ख़िलाफ़ सचिन ने ये कीर्तिमान बनाया था.

रविवार को आईपीएल का फ़ाइनल मैच है और सचिन का खेलना तय नहीं है क्योंकि उनके हाथ में चोट लगी है.

संबंधित समाचार