राजनीतिक पैकेज की माँग

मीरवाइज़ उमर फ़ारूक़
Image caption मीरवाइज़ उमर फ़ारूक़ ने बातचीत के लिए चार शर्तें सामने रखी हैं

भारत प्रशासित कश्मीर में सर्वदलीय हुर्रियत कांफ़्रेंस के अध्यक्ष मीरवाइज़ उमर फ़ारूक़ ने प्रधानमंत्री से माँग की है कि वे कश्मीर की अपनी प्रस्तावित यात्रा के दौरान एक राजनीतिक पैकेज की घोषणा करें जिसका उद्देश्य कश्मीर समस्या का समाधान हो.

फ़ारूक़ शुक्रवार को अपने पिता की बरसी पर श्रीनगर में एक जनसभा को संबोधित कर रहे थे.

उन्होंने बातचीत के लिए भारत सरकार के समक्ष चार शर्तें रखी हैं- तमाम राजनीतिक क़ैदियों को रिहा किया जाए, सेना और सुरक्षा बलों को राज्य में विशेषाधिकार देने वाले क़ानूनों को ख़त्म किया जाए, शहरों और क़स्बों से फ़ौज हटाई जाए और प्रधानमंत्री एक सियासी पैकेज की घोषणा करें.

उन्होंने कहा कि यदि भारत सरकार ऐसा करने को तैयार है तो हुर्रियत कांफ़्रेंस ही नहीं बल्कि कश्मीरी जनता भी बातचीत के पक्ष में है.

पाकिस्तान समर्थक

जनसभा से पहले मीरवाइज़ के नेतृत्व में जामा मस्जिद से मज़ार-ए-शहीद तक एक जुलूस निकाला गया जिसमें बड़ी संख्या में युवक शामिल थे जो पाकिस्तान के समर्थन में नारे लगा रहे थे.

जिस ट्रक पर मीरवाइज़ उमर फ़ारूक़ सवार थे उस पर से भी पाकिस्तान समर्थक नारे लगाए जा रहे थे. यानि उनके पाकिस्तान समर्थक नेता होने का संकेत दिया जा रहा था.

हालाँकि ख़ुद मीरवाइज़ ने बार-बार कहा कि कश्मीर का फ़ैसला भारत या पाकिस्तान नहीं बल्कि कश्मीर की जनता करेगी.

उनकी अपली पर आज कश्मीर घाटी में बंद आयोजित किया गया. दुकानें बंद रहीं और ट्रैफ़िक स्थगित रहा.

आज ही के दिन 20 वर्ष पहले मीरवाइज उमर फ़ारूक़ के पिता मौलवी मोहम्मद फ़ारूक़ की अज्ञात बंदूकधारियों ने हत्या कर दी थी.

संबंधित समाचार