अख़बार के वितरकों पर 'हमला'

पत्रिका
Image caption कथित उपद्रवियों ने समाचार पत्र के कुछ बंडल को पानी में फेंक दिया

मध्यप्रदेश के एक मंत्री और एक विधायक पर राज्य से प्रकाशित होने वाले समाचार पत्र ‘पत्रिका’ के वितरण में कथित रुप से व्यवधान डालने का आरोप लगाया गया है.

ये आरोप राजस्थान पत्रिका समूह से प्रकाशित समाचार पत्र 'पत्रिका' ने लगाए हैं.

अख़बार के अधिकारियों ने बीबीसी को बताया कि पिछले दिनों इंदौर में समाचार पत्र के वितरकों को धमकाने, प्रतियां छीनने और फाड़ने की अनेक घटनाएं हुई हैं.

अधिकारियों ने आरोप लगाया कि इन सभी घटनाओं के पिछे राज्य के उद्योग मंत्री कैलाश विजयवर्गी और विधायक रमेश मेंदला के लोग शामिल हैं.

इस सिलसिले में बीबीसी ने कैलाश विजयवर्गी से संपर्क साथा तो वो बात करने से टाल गए.

दावा

समाचार पत्र के अधिकारियों का दावा है कि पिछले महीने अख़बार ने एक ज़मीन घोटाले को उजागर किया था जिससे मंत्री और विधायक भड़क गए और फिर उनके लोगों ने अख़बार को निशाना बनाया.

समाचार पत्र के डिप्टी ग्रुप एडिटर भुवनेश जैन का कहना है कि इंदौर में अब भी स्थिति तनाव पूर्ण हैं, हालांकि उन्होंने स्वीकार किया कि अब पुलिस सक्रिय हो गई है और इनके डर से समाचार पत्र को नुक़सान पहुंचाने वाला गिरोह पिछे हट गया है.

ख़बरें हैं कि मंत्री और विधाक के ख़िलाफ़ अब राजनीतिक दल भी मैदान में आ गए हैं. कई जगहों पर विपक्षी कांग्रेस, समाजवादी पार्टी और जनता दल के कार्यकर्ताओं ने विजयवर्गी के विरुद्ध प्रदर्शन किया.

राज्य के अनेक गणमान्य लोगों ने इस घटना की निंदा की है. उनका कहना है कि भारत का संविधान अभिव्यक्ति की स्वतंत्रा देता है और अख़बार को पाठकों तक पहुंचाने में बाधा डालना अपराध है.

संबंधित समाचार