सोरेन को पद छोड़ना होगा

नीतिन गडकरी
Image caption गडकरी की अध्यक्षता में होने वाली बैठक में मुख्यमंत्री के नाम का फ़ैसला होगा

झारखंड में भारतीय जनता पार्टी और झारखंड मुक्ति मोर्चा के बीच सरकार गठन को लेकर समझौता हो गया है. इसके अनुसार वहाँ जल्दी ही भाजपा का मुख्यमंत्री होगा.

भाजपा के नेतृत्व वाली सरकार को झारखंड मुक्ति मोर्चा (जेएमएम) और ऑल झारखंड स्टूडेंट्स यूनियन (आजसू) दोनों समर्थन देंगे.

भाजपा नेता अनंत कुमार ने दिल्ली में पत्रकारों को बताया, "भाजपा के मुख्यमंत्री के नेतृत्व में एनडीए सरकार बनाने का निर्णय लिया गया है. जेएमएम और भाजपा ने ये फ़ैसला किया है कि झारखंड को राष्ट्रपति शासन से बचाने के लिए जल्द ही भाजपा का मुख्यमंत्री बनाया जाएगा. "

उनका कहना था कि एनडीए स्थिर और विकासशील सरकार बनाएगी जो अपना कार्यकाल पूरा करेगी.

अनंत कुमार ने कहा कि मुख्यमंत्री कौन होगा इसका फ़ैसला 10 मई को भाजपा की संसदीय बोर्ड की बैठक में किया जाएगा.

उन्होंने कहा कि इस बैठक में सरकार की रुपरेखा के बारे में भी निर्णय लिया जाएगा.

राजनीतिक उथलपुथल

Image caption शिबू सोरेन की ओर से संकेत दिए गए थे कि भाजपा के साथ कार्यकाल का बँटवारा हो सकता है

भाजपा का मुख्यमंत्री बनाए जाने का फ़ैसला एक बैठक के बाद लिया गया जिसमें पार्टी अध्यक्ष नितिन गडकरी के अलावा वरिष्ठ नेता अनंत कुमार, झारखंड के उपमुख्यमंत्री रघुवरदास, झारखंड मुक्ति मोर्चा के विधायक दल के नेता हेमंत सोरेन और आजसू के अध्यक्ष सुदेश महतो मौजूद थे.

इस फ़ैसले के बाद अनंत कुमार ने बताया कि सरकार का कामकाज सुचारू रूप से चलाने के लिए एक न्यूनतम साझा कार्यक्रम तैयार किया जाएगा.

उन्होंने बताया कि पार्टी अध्यक्ष नितिन गडकरी इस संबंध में भाजपा, जेएमएम और आजसू के नेताओं से चर्चा करने के लिए एक पर्यवेक्षक को राँची भेज रहे हैं.

ग़ौरतलब है कि हाल ही में संसद में कटौती प्रस्ताव में झारखंड के मुख्यमंत्री शिबू सोरेने ने यूपीए सरकार समर्थन किया था. जबकि वो भाजपा के सहयोग से अपने राज्य की सरकार चला रहे हैं.

इस घटना के बाद पिछले कुछ दिनों में तेजी से घटनाक्रम बदला है.

पहले भाजपा के संसदीय बोर्ड ने शिबू सोरेन सरकार से समर्थन वापस लेने का फ़ैसला किया था लेकिन बाद में इस निर्णय को स्थगित कर दिया गया था.

इसके बाद से वहाँ राजनीतिक असमंजस की स्थिति थी.

शिबू सोरेन के बेटे हेमंत सोरेने ने बाक़ायदा भाजपा से इस बात के लिए माफ़ी मांगी थी कि उनके पिता और मुख्यमंत्री शिबू सोरेने ने कटौती प्रस्ताव पर यूपीए का साथ दिया.

कांग्रेस ने इस घटनाक्रम के बाद शिबू सोरेन को समर्थन देने में कोई रुचि नहीं दिखाई थी.

नहीं चलेगी सरकार - मरांडी

भाजपा-जेएमएम के बीच हुए इस नए समझौते पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए झारखंड विकास मोर्चा के नेता बाबूलाल मरांडी ने कहा कि ये सरकार बहुत दिनों नहीं चलेगी और जल्दी ही गिर जाएगी.

उन्होंने कहा, "इस समझौते से भाजपा का चरित्र भी उजागर हुआ है. पहले तो वह समर्थन वापसी पर अड़ी हुई थी लेकिन मुख्यमंत्री का पद मिलने की सूरत में समझौता भी कर लिया."

मरांडी का कहना था कि यह भाजपा का पहला ऐसा प्रयोग नहीं है. इससे पहले कई नेताओं और पार्टियों को भाजपा ने धोखा दिया है.

लेकिन भाजपा के प्रदेश महासचिव गणेश मिश्रा ने इस नए समझौते का स्वागत किया है और कहा है कि इससे राज्य को एक स्थायी सरकार मिलेगी.

संबंधित समाचार