गडकरी की माफ़ी लालू ने ठुकराई

गडकरी और आडवाणी
Image caption गडकरी की लालू और मुलायम पर टिप्पणी से विवाद खड़ा हो गया है

भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष नितिन गडकरी ने राष्ट्रीय जनता दल के नेता लालू प्रसाद यादव और समाजवादी पार्टी नेता मुलायम सिंह पर टिप्पणी को लेकर माफ़ी माँगी है.

लेकिन लालू यादव इससे संतुष्ट नहीं हुए और उन्होंने इसे स्वीकार नहीं किया है.

पटना में पत्रकारों से बातचीत में लालू यादव ने उनकी माफ़ी को स्वीकार नहीं किया और कहा कि ये शर्म की बात है कि गडकरी जैसे लोग भाजपा के अध्यक्ष हैं.

लालू का कहना था कि आडवाणी ने तो कभी किसी के लिए ऐसी भाषा का इस्तेमाल नहीं किया.

उनका कहना था कि ऐसे नेताओं को सबक सिखाया जाएगा.

समाजवादी पार्टी के महासचिव मोहन सिंह ने भी भाजपा अध्यक्ष के टिप्प्णी की कड़ी आलोचना की.

उनका कहना था कि इस टिप्पणी को लेकर समाजवादी पार्टी अदालत में जाएगी.

गडकरी की माफ़ी

इसके पहले भाजपा अध्यक्ष नितिन गडकरी ने पत्रकारवार्ता कर अपनी सफ़ाई पेश की और कहा कि उन्होंने एक मुहावरे का इस्तेमाल किया था.

उनका कहना था कि मुलायम और लालू यादव सम्मानित नेता हैं और यदि उन्हें उनके वक्तव्य से ठेस पहुँची है तो वे अपने शब्द वापस लेते हैं.

गडकरी का कहना था,''यदि लालू यादव और मुलायम सिंह को इससे दुख पहुँचा है तो मैं इसके लिए खेद व्यक्त करता हूँ.''

ग़ौरतलब है कि भाजपा के कटौती प्रस्ताव पर यूपीए का साथ देने के मुद्दे पर बोलते हुए बुधवार को गडकरी ने कहा था कि लालू प्रसाद और मुलायम सिंह सीबीआई से डरते हैं.

टेलीविज़न चैनलों ने दिखाया कि चंडीगढ़ में एक सभा को संबोधित करते हुए गडकरी ने दोनों नेताओं को कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के तलुए चाटने वाले की संज्ञा दे डाली थी.

संबंधित समाचार