पूर्वी उत्तर प्रदेश में आंधी से तबाही

आंधी से उखड़ा पेड़

आंधी से कई पेड़ों के अलावा बिजली के खंबे भी उखड़ गए.

रविवार शाम साढ़े पांच बजे उत्तर प्रदेश के गोरखपुर और उसके आसपास के ज़िलों में चलने वाली तेज़ रफ़्तार आंधी ने भारी तबाही मचाई. गोरखपुर, महाराजगंज, कुशीनगर और देवरिया ज़िलों में अब तक कम से कम 16 लोगों के मरने की ख़बर है.

सबसे अधिक तबाही देवरिया ज़िले में हुई है जहां सात व्यक्तियों के अलावा कई मवेशियों के भी मारे जाने की ख़बर है.

बिजली के पांच सौ से भी अधिक खंबे उखड़ चुके हैं जिसके चलते विद्युत आपूर्ति रुक गई है.

पूर्वांचल विद्युत वितरण निगम के गोरखपुर ज़ोन के मुख्य अभियंता रवींद्र कुमार ने बीबीसी को बताया कि लगभग 20 घंटे की मशक्कत के बाद देवरिया शहर में बिजली बहाल कर दी गई है लेकिन ग्रामीण इलाक़ों में बिजली की आपूर्ति में तीन-चार दिन लग सकते हैं.

आंधी

रविवार शाम महाराजगंज में ओले भी पड़े और गोरखपुर, देवरिया और कुशीनगर में तेज़ हवाओं के साथ बारिश भी हुई.

आंधी

देवरिया ज़िले के ग्रामीण इलाक़ों में खंबे उखड़ने से बिजली की आपूर्ति रुक गई है.

सड़कों के किनारे खड़े पेड़ों के गिरने से देर रात तक गोरखपुर-वाराणसी राजमागर्ग के अलावा देवरिया और कुशीनगर के रास्ते भी अवरुद्ध गो गए जहां घंटों जाम की स्थिति रही.

गोरखपुर विश्वविद्यालय में भूगोल विभाग के प्रोफ़ेसर और मौसम विज्ञानी शिवशंकर वर्मा के मुताबिक पखवाड़े भर की तपिश के बाद पिछले सप्ताह ‘लैला’ की आमद की वजह से इस क्षेत्र में अचानक बही पुरवा हवाओं की नमी ने निम्न वायु दबाव का क्षेत्र बना दिया था.

प्रोफ़ेसर वर्मा के अनुसार ऐसी ‘लो प्रैशर बेल्ट’ में हवाएं चक्रवाती स्वरूप ले लेती हैं जिससे उनकी विनाशक क्षमता बढ़ जाती है.

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.