'मानवाधिकारों का सम्मान होगा'

Image caption मनमोहन सिंह दो दिन के दौरे पर जम्मू कश्मीर आए हैं

भारत प्रशासित कश्मीर के दौरे पर आए प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने आश्वासन दिया है कि सरकार ये सुनिश्चित करेगी कि आतंकवाद से निपटने में सुरक्षा बल आम लोगों के मानवाधिकारों का सम्मान करें.

श्रीनगर में शेरे कश्मीर कृषि विश्वविद्यालय के दीक्षांत समारोह में मनमोहन सिंह ने कहा, “मानवाधिकार हनन की शिकायतों के बारे में मैं वाकिफ़ हूँ. हमारी सरकार की नीति यही रही है कि लोगों के अधिकारों की रक्षा होनी चाहिए. जम्मू कश्मीर में सुरक्षाबलों को कड़े निर्देश दिए गए हैं कि वे आम नागरिकों के अधिकारों का सम्मान करें.”

प्रधानमंत्री का कहना था, “कुछ लोग नहीं चाहते कि आम नागरिकों को सशक्त करने के लिए शुरु हुई कोई भी राजनीतिक प्रक्रिया कामयाब हो. इसीलिए लोगों की ज़िंदगी में ख़लल डालने के लिए सीमा पार से कोई न कोई गतिविधि होती रहती है.”

पाकिस्तान का नाम लिए बग़ैर प्रधानमंत्री ने कहा, “मैं सीमा पार के अपने पड़ोसियों से कहना चाहता हूँ कि वे ऐसा वातावरण तैयार करने में मदद करें जिसमें दोनों ओर के लोग शांति से रह सकें.”

हड़ताल का आह्वान

मनमोहन सिंह सोमवार से भारत प्रशासित कश्मीर के दो दिवसीय दौरे पर हैं. प्रधानमंत्री का दौरा ऐसे समय में हो रहा है जब घाटी में फर्ज़ी मुठभेड़ों के आरोप में एक सैन्य अधिकारी पर कार्रवाई हुई है.

इस बीच अलगाववादी नेता सैयद अली शाह गिलानी ने घाटी में हड़ताल का आह्वान किया हुआ है. प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की ये दूसरी कश्मीर यात्रा है.

मनमोहन सिंह की यात्रा से पहले केंद्रीय गृह मंत्री पी चिदंबरम ने अलगाववादी नेताओं के साथ बातचीत शुरु की थी लेकिन इसमें कोई प्रगति नहीं हो सकी क्योंकि हुर्रियत नेता इसमें शामिल नहीं हुए थे.

प्रधानमंत्री अपनी इस यात्रा के दौरान राजनीतिक दलों के अलावा राज्य के वरिष्ठ नौकरशाहों, सेना और पुलिस अधिकारियों से भी मुलाक़ात कर सकते हैं और सीमा पार से होने वाली घुसपैठ से निपटने के उपायों पर विचार कर सकते हैं.

संबंधित समाचार