नाकेबंदी ख़त्म करने का एलान

Image caption मणिपुर सीमा पर 65 दिनों से नाकेबंदी चल रही है.

नगा छात्र संघ ने मणिपुर जानेवाले राजमार्गों पर लगी नाकेबंदी को फ़िलहाल ख़त्म करने का फ़ैसला किया है.

दिल्ली में एक संवाददाता सम्मेलन में ये एलान करते हुए छात्र संघ के प्रवक्ता ने इसकी निश्चित समयसीमा की जानकारी नहीं दी लेकिन कहा कि कोहिमा में अपने सहयोगियों के साथ सलाह मशविरा के बाद ये तय किया जाएगा.

नगा गुटों ने 11 अप्रैल से मणिपुर को जानेवाले दो राजर्मागों, राष्ट्रीय राजमार्ग 39 और 53, पर नाकेबंदी कर रखी है जिससे मणिपुर में आम ज़रूरत की चीज़ों की भारी कमी हो गई है.

पिछले दिनों में अस्पतालों में दवाओं की भी भारी कमी हो गई है.

नगा गुट मणिपुर सरकार के उस फ़ैसले का विरोध कर रहे हैं जिसके तहत एनएससीएन के प्रमुख टी मुईवा को मणिपुर स्थित उनके पूर्वजों के गांव में जाने की इजाज़त नहीं दी गई.

केंद्रीय बल

इसके पहले गृह सचिव जी के पिल्लै ने 65 दिनों की नाकेबंदी को खत्म करने के लिए केंद्रीय सुरक्षा बलों को भेजने की बात की थी.

पिल्लै ने कहा कि इस मामले पर नगालैंड और मणिपुर के के मुख्य सचिव बुधवार को स्थिति का जायज़ा लेंगे.

सोमवार को नगा छात्र संघ के पांच सदस्य प्रधानमंत्री, गृह मंत्री और विपक्ष के नेता से भी मिले.

उन्होंने कहा कि वो प्रधानमंत्री की बातों से काफ़ी प्रभावित हुए हैं और उसके बाद उन्होंने नाकेबंदी को फ़िलहाल उठाने का फ़ैसला किया.

जहां तक गृह सचिव के बयानों का सवाल है, नगा छात्रों का कहना था कि वो सिर्फ़ भड़काउ भाषा का इस्तेमाल जानते हैं.

उनका कहना था, “हमें ये कहने में कोई हिचक नहीं है कि ये गृह सचिव भारत सरकार के लिए भार बन गए हैं.”

संबंधित समाचार