किर्गिस्तान में लाखों को मदद चाहिए: संयुक्त राष्ट्र

संयुक्त राष्ट्र का कहना है कि किर्गिस्तान में हुई किर्गिज़-उज़्बेक हिंसा से प्रभावित हुए लोगों की संख्या दस लाख तक हो सकती है. संयुक्त राष्ट्र ने इन लोगों की मदद के लिए सात करोड़ डॉलर की आपात अपील की घोषणा की है.

उधर किर्गिस्तान की अंतरिम सरकार की नेता रोज़ा ओतुनबायेफ़ ने कहा है कि हिंसा में मरने वालों की संख्या 2000 तक हो सकती है.

संयु्क्त राष्ट्र महासचिव बान की मून ने ये अपील जारी करते हुए कहा है कि इन लोगों के लिए खाद्य पदार्थों और पानी की सख़्त ज़रूरत है. इस हिंसा से चार लाख लोग विस्थापित हुए हैं और अनेक लोगों को पड़ोसी देश उज़्बेकिस्तान भागना पड़ा है.

'मैं ख़ुद देखने आई हूँ'

किर्गिस्तान की अंतरिम सरकार की नेता रोज़ा ओतुनबायेफ़ ने हिंसा से प्रभावित ओश शहर का दौरा किया है.

उन्होंने ओश के मुख्य चौराहे पर जनता को संबोधित करते हुए कहा, "मैं यहाँ ख़ुद देखने आई हूँ, लोगों से बात करने आई हूँ, उनसे ख़ुद पूछने आई हूँ कि यहाँ क्या हुआ था....हम शहर के पुर्निर्माण के लिए सब कुछ करेंगे."

उन्होंने अंतरिम सरकार के इस संकट का सामना करने की आलोचना को ख़ारिज किया.

राहत सामग्री उज़्बेकिस्तान पहुँचनी शुरु हो गई है लेकिन संयुक्त राष्ट्र की शरणार्थियों के लिए संस्था यूएएचसीआर ने कहा है कि सबसे ज़्यादा प्रभावित किर्गिस्तान के ओश शहर तक इन्हें पहुँचाना अब भी बहुत मुश्किल है.

मध्य एशिया में अमरीकी दूत रॉबर्ट ब्लेक ने हिंसा की जाँच कराने की माँग की है. ब्लेक ने शुक्रवार को अंदिजान में शर्णार्थी शिविरों का दौरा किया. करीब चार लाख लोग अपना घर छोड़कर भाग गए हैं और उज़्बेक मूल के कई लोग उज़्बेकिस्तान जा रहे हैं.

संबंधित समाचार