भारतीय क़ैदियों को रिहा किया गया

पाकिस्तान और भारत के बीच विदेश सचिव स्तर की वार्ता से पहले पाकिस्तान ने 17 भारतीय क़ैदियों को बुधवार को रिहा किया है.

इसमें राजस्थान में बाड़मेर और जैसलमेर के छह नागरिक शामिल हैं. ये लोग पिछले एक दशक से भी ज़्यादा समय से जेल में थे.

बाड़मेर के सांसद हरीश चौधरी ने राजस्थान के इन भारतीयों की वाघा आतारी पर आगवानी की.

राजस्थान के सीमावर्ती ज़िलो के तीन और लोग पाकिस्तान की जेलो में है. रिहा हुए लोगों में जमालुद्दीन नाम के व्यक्ति जैसलमेर के हैं और बाकी सभी बाड़मेर के हैं.

इन लोगों का कहना है कि वो या तो किसी मवेशी का पीछा करते हुए या फिर लकड़ी इकट्ठा करते हुए सरहद पार कर गए.ये कदम उन्हें कोई एक दशक से भी ज़्यादा समय तक अपने वतन,और परिवार से बहुत दूर ले गया.

इनमें अनवर और कोजा खान दोनों सगे भाई है .उनकी रिहाई पर पूरा परिवार खुश है.कोजा खान की शादी हुई ही थी,कि वो सरहद पार कर गया और पाकिस्तानी सीमा रक्षकों के हाथों गिरफ्तार हो गया.

कोजा खान की पत्नी शाफियां ने सरकार से बहुत मिन्नते की थी कि उसके शोहर को छुड़ाया जाए.मगर अब पाकिस्तान ने इन दोनों भाइयो को रिहा कर दिया है.इन सभी को पाकिस्तान में गोपनीयता कानून के तहत गिरफ्तार किया गया और फिर इनकी सज़ा पूरी होने के काफी समय बाद छोड़ा गया.

संबंधित समाचार