अभिनेता रवि वासवानी का निधन

फ़िल्म जाने भी दो यारो का पोस्टर
Image caption फ़िल्म 'जाने भी दो यारो' में रवि वासवानी ने नसीरुद्दीन शाह के साथ एक यादगार भूमिका निभाई थी.

फ़िल्म 'जाने भी दो यारो' से अपनी एक अलग पहचान बनाने वाले अभिनेता रवि वासवानी का दिल का दौरा पड़ने से शिमला में निधन हो गया. वे 64 साल के थे.

उन्होंने 1981 में फ़िल्म 'चश्मेबद्दूर' से अपने फ़िल्मी करियर की शुरुआत की थी. 'जाने भी दो यारो' और 'चश्मेबद्दूर' जैसी फ़िल्मों में बासवानी के ِअभिनय को काफी सराहा जाता है.

'जाने भी दो यारो' में अपने हास्य किरदार के लिए उन्हें 1984 में फ़िल्म फ़ेयर पुरस्कार भी मिला था. वासवानी को उनके विनोदी स्वभाव और बेहतरीन कॉंमिक टाइमिंग के लिए जाना जाता था.

दिल्ली स्थित राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय के छात्र रहे वासवानी अविवाहित थे.

उन्होंने 30 से भी ज़्यादा फ़िल्मों के साथ-साथ कुछ टेलिविज़न धारावाहिकों में भी काम किया था.

उनकी मौत पर निर्देशक मधुर भंडारकर और कुंदन शाह सहित फ़िल्मी दुनिया के कई बड़े निर्देशकों, अभिनेताओं ने दुख जताया है.

माइक्रो ब्लॉगिग वेबसाइट ट्विटर पर अभिनेता अनुपम खेर ने लिखा है, ''अभी-अभी मुझे पता चला है कि रवि वासवानी की मौत हो गई है. यह बहुत ही दुखद है. रवि का व्यक्तित्व बंजारा किस्म का था. वे हमेशा ख़ुश रहने वाले और दूसरों की मदद के लिए तैयार रहने वाले इंसान थे.''

वासवानी ने 'बंटी और बबली', 'प्यार तूने क्या किया' जैसी कई सफल हिंदी फ़िल्मों में चरित्र किरदार अदा किया था.

संबंधित समाचार