संसद में लगातार चौथे दिन हंगामा

लोकसभा
Image caption मॉनसून सत्र में प्रश्नकाल तीन दिन से शुरु नहीं हो पाया है

मॉनसून सत्र के चौथे दिन दोनों सदनों में महंगाई के मुद्दे पर फिर हंगामा हुआ है.दोनों सदनों को दिनभर के लिए स्थगित कर दिया गया है.

सत्र के तीसरे दिन काम रोको प्रस्ताव नामंज़ूर होने के बाद विपक्ष ने चौथे दिन फिर से हंगामा किया.

हंगामे के बीच अध्यक्ष मीरा कुमार ने जल्दी से कुछ प्रस्ताव तो पारित कर दिए लेकिन शोर इतना था कि उन्हें सदन को 30 जुलाई तक के लिए स्थगित करना पड़ा.

यही माहौल राज्यसभा का रहा जहां पर भी महंगाई पर हुए हंगामे के कारण सदन को स्थगित करना पड़ा.

इससे पहले भी सुबह 11 बजे दोनों ही सदनों की शुरुआत हंगामेदार रही. तब भी सदनों को दोपहर 12 बजे तक लिए स्थगित कर दिया गया था.

विपक्ष की मांग

लोकसभा की कार्यवाही शुरु होने पर अध्यक्ष मीरा कुमार ने कहा था कि उन्हें विपक्ष के कई सांसदों ने आर्टिकल 184 के तहत नोटिस दिया है जिनमें विपक्ष की नेता सुषमा स्वराज भी शामिल हैं.

सुषमा स्वराज ने मांग की कि प्रश्नकाल स्थगित करके उनके इस नोटिस को मंज़ूर कर लिया जाए जिससे समय बर्बाद किए बिना महंगाई के मुद्दे पर चर्चा हो सके.

सुषमा स्वराज ने काम रोको प्रस्ताव को नामंज़ूर करने के फ़ैसले पर अध्यक्ष से कहा, "मैं आपके फ़ैसले पर टिप्पणी नहीं कर सकती लेकिन हमें आपके फ़ैसले से दुख हुआ है."

लेकिन स्पीकर ने नियम के अनुसार चलने की बात कहते हुए प्रश्नकाल को स्थगित करके इस विषय पर चर्चा करने की मांग से इंकार कर दिया था.

विपक्ष की नेता सुषमा स्वराज ने भी प्रश्नकाल शुरु करने से इंकार कर दिया था और महंगाई पर प्रश्नकाल से पहले चर्चा कराने की मांग की थी. उसके बाद संसद में हंगामा शुरु हो गया था और अध्यक्ष ने सदन को पहले 12 बजे तक स्थगित कर दिया था.

12 बजे के बाद वापस आने पर भी सदन में हंगामा जारी रहा और सदन को दिनभर के लिए स्थगित कर दिया गया.

ग़ौरतलब है कि पिछले तीन दिन से महंगाई पर चर्चा होने की मांग पर लगातार हंगामा हो रहा है और दोनों सदनों में प्रश्नकाल शुरु नहीं हो पा रहा है.

संबंधित समाचार