हिंसा का चक्र रुकना ज़रुरी: उमर अब्दुल्ला

उमर अब्दुल्ला
Image caption उमर अब्दुल्ला ने प्रदर्शनकारियों के ख़िलाफ़ कड़ा रुख अपनाया है.

जम्मू कश्मीर के मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने कहा है कि कश्मीर से जुड़े किसी भी राजनीतिक कदम की सफलता के लिए घाटी में पहले शांति होना ज़रुरी है.

कश्मीर घाटी में पिछले डेढ़ महीने से लगातार प्रदर्शन हो रहे हैं जिसके बाद मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने आज दिल्ली में प्रधानमंत्री के साथ बैठक की है.

उन्होंने कहा कि जम्मू कश्मीर को राजनीतिक पैकेज की ज़रुरत है और उसके लिए काम करना होगा लेकिन पहले सामान्य स्थिति होनी चाहिए तभी ऐसा संभव हो सकेगा.

उमर अबदुल्ला प्रदर्शनों से काफ़ी नाराज़ और गुस्से में दिखे. उनका कहना था, ‘‘ये दुखद है कि हिंसा का चक्र चल रहा है. प्रदर्शन हो रहे हैं जिसमें मौतें हो रही हैं और फिर प्रदर्शन हो रहे हैं. फिर झड़प हो रही हैं और लोग मर रहे हैं.’’

उन्होंने ज़ोर देकर कहा, ‘‘हिंसा का चक्र समाप्त होना चाहिए. मैंने प्रधानमंत्री के साथ बातचीत की है. हमने कश्मीर की स्थिति पर चर्चा की.स्थिति सामान्य होना ज़रुरी है. लोग क़ानून हाथ में ले रहे हैं सरकारी कार्यालयों को निशाना बनाया जा रहा है. इसे रोकना होगा तभी किसी भी प्रस्ताव पर बात हो सकेगी.’’

अब्दुल्ला ने प्रदर्शनकारियों को कड़ी चेतावनी देते हुए कहा, ‘‘लोग अगर क़ानून हाथ में ले लेंगे तो उसके परिणाम भुगतने होंगे. ये परिणाम गंभीर होते हैं. मैं बार बार अपील करता रहा हूं कि वो हिंसा को रोकें ताकि सरकार आवश्यक क़दम उठाए जिससे स्थिति सामान्य हो. ऐसा नहीं हो सकता कि लोग निकलें और थानों को जलाएं और सुरक्षा बल कुछ न करें.’’

संबंधित समाचार