महँगाई पर संसद में गतिरोध समाप्त

संसद

संसद में महँगाई पर गतिरोध समाप्त हो गया है. सभी दल महँगाई पर बिना मतदान के चर्चा कराने पर सहमत हो गए हैं.

इस विषय पर लोक सभा में मंगलवार को और राज्यसभा में बुधवार को चर्चा होगी.

वित्त मंत्री और प्रणव मुखर्जी ने सोमवार को सभी दलों के सांसदों को नाश्ते पर आमंत्रित किया था और इस दौरान सत्ता-पक्ष और विपक्ष में संसद की कार्यवाही चलाने पर सहमति बनी.

हालांकि अब तक विपक्ष महँगाई के मुद्दे पर मत विभाजन के नियम से पीछे हटने को तैयार नहीं था लेकिन इस बैठक में वो मान गया और मंगलवार से इस मुद्दे पर लोक सभा में चर्चा शुरू हो जाएगी.

ग़ौरतलब है कि संसद में मानसून सत्र के पहले ही दिन महँगाई का मुद्दा सामने आ गया था.

लंबी खींचतान

सरकार के ख़िलाफ़ एकजुट विपक्ष इस मुद्दे पर बहस के लिए मत विभाजन से कम पर तैयार नहीं था तो दूसरी ओर और सरकार भी झुकने को तैयार नहीं थी.

बैठक में तय हुआ है कि सदन में एक प्रस्ताव रखा जाएगा जिसमें महँगाई को लेकर चिंता जताई जाए और सरकार से प्रभावी कदम उठाने का आग्रह किया जाए.

इस बैठक में भाजपा की ओर से सुषमा स्वराज और अरुण जेटली, एनसीपी नेता शरद पवार, वामपंथी दलों की ओर से गुरदास दासगुप्ता, वासुदेव आचार्य, समाजवादी पार्टी नेता मुलायम सिंह यादव और रामगोपाल यादव, जनता दल-यू नेता शरद यादव मौजूद थे.

सरकार की ओर वित्त मंत्री प्रणव मुखर्जी के अलावा गृह मंत्री पी चिदंबरम, पवन कुमार बंसल और पृथ्वीराज चौहान उपस्थित थे.

इसके पहले इस मुद्दे पर रविवार को वरिष्ठ भाजपा नेता लालकृष्ण आडवाणी के साथ राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) के नेताओं की बैठक हुई थी.

विपक्ष की नेता सुषमा स्वराज, अरुण जेटली के साथ एनडीए संयोजक शरद यादव भी इसमें शामिल हुए थे.

संबंधित समाचार