ब्रह्मोस-2 का सफल परीक्षण

ब्रह्मोस (फ़ाइल फ़ोटो)
Image caption ब्रह्मोस के पहले संस्करण का भारतीय सेना व्यापक उपयोग कर रही है

भारत ने रविवार को 290 किलोमीटर मारक क्षमता वाली ब्रह्मोस क्रूज़ मिसाइल का सफल परीक्षण किया है.

उड़ीसा के चांदीपुर इंटिग्रेटेड टेस्ट रेंज (आईटीआर) से ब्रह्मोस-2 का यह परीक्षण सुबह 11 बजकर 35 मिनट पर किया गया.

इसके बाद डिफेंस रिसर्च एंड डेवलपमेंट ऑर्गेनाइजेशन (डीआरडीओ) के प्रवक्ता ने कहा है कि यह परीक्षण सैन्य बलों के लिए मिसाइल की उपयोगिता की जाँच करने के लिए किया गया.

अधिकारियों का कहना है कि ध्वनि की रफ़्तार से 2.8 गुना तेज़ रफ़्तार से मार करने वाली यह मिसाइल 300 किलोग्राम तक विस्फोटक ले जा सकती है.

समाचार एजेंसी पीटीआई ने अधिकारियों के हवाले से रहा है कि हालांकि इस मिसाइल को कई प्लेटफ़ॉर्म से लॉन्च किया जा सकता है लेकिन शोधकर्ता इसे विमान और पनडुब्बियों से लॉन्च करने के लिए तैयार करने पर ज़ोर दे रहे हैं.

अधिकारियों का कहना है कि इस मिसाइल की विशेषता यह है कि यह सटीक निशाना लगा सकता है और निशाने को आसपास बहुत तबाही मचाए बिना नष्ट कर सकता है. इसलिए शहरी इलाक़ों में हमला करने में यह बहुत अहम हथियार साबित होगा.

ब्रह्मोस मिसाइल का पहला परीक्षण जून, 2001 में किया गया था.

संबंधित समाचार