गिलानी गिरफ़्तार, अब्दुल्ला दिल्ली में

सैयद अली शाह गिलानी
Image caption गिलानी ही घाटी में विरोध प्रदर्शनों की अगुवाई कर रहे हैं

भारत प्रशासित कश्मीर में अलगाववादी नेता सैयद अली शाह गिलानी को गिरफ़्तार कर लिया गया है.

जम्मू कश्मीर के पुलिस प्रमुख एसएम सहाय ने बताया कि गिलानी "शांति के लिए ख़तरा थे इसलिए उन्हें हिरासत में लिया गया है."

इस समय गिलानी को श्रीनगर के पुलिस स्टेशन में रखा गया है और संभवतः उन्हें कुछ समय बाद जेल भेजा जाएगा.

कश्मीर घाटी में चल रहे विरोध प्रदर्शन का नेतृत्व करने वाले गिलानी को पिछली बार 2 अगस्त को रिहा किया गया था.

अलगाववादी नेताओं में गिलानी को सबसे कट्टरपंथी माना जाता है, हाल ही में उन्होंने विरोध प्रदर्शनों को बंद करने और केंद्र सरकार के साथ बातचीत शुरू करने के लिए पाँच शर्तें रखी थीं.

इनमें कश्मीर को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर विवाद मानने, कश्मीर से सेना हटाने और राजनीतिक बंदियों की रिहाई जैसी माँगें शामिल थीं.

गिलानी ईद के मौक़े पर हज़रत बल दरगाह पर एक जनसभा को संबोधित करने वाले थे, कुछ लोगों का मानना है कि उन्हें उस सभा में जाने से रोकने के लिए ही हिरासत में लिया गया है.

गिलानी की गिरफ़्तारी ऐसे समय पर हुई जबकि जम्मू कश्मीर के मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला दिल्ली में प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से मुलाक़ात करने वाले हैं.

प्रधानमंत्री से मुलाक़ात से पहले उमर अब्दुल्ला ने कहा है कि "यथास्थिति कोई विकल्प नहीं है".

संबंधित समाचार