कोर्ट और जजों की सुरक्षा

Image caption विवादित बाबरी मस्ज़िद को कारसेवकों ने काफ़ी नुकसान पहुंचाया था

उत्तर प्रदेश सरकार ने अयोध्या मंदिर – मस्जिद विवाद पर अदालत के संभावित फैसले को देखते हुए हाईकोर्ट की लखनऊ और इलाहाबाद बेंच की सुरक्षा के लिए बड़े पैमाने पर पुलिस, अर्ध सैनिक बल और मजिस्ट्रेट तैनात करने की घोषणा की है.

हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच की तीन जजों की एक विशेष अदालत अपना फैसला 24 सितम्बर को तीसरे पहर साढ़े तीन बजे सुनाएगी. विशेष अदालत के तीनों जजों जस्टिस एसयू खान, जस्टिस सुधीर अग्रवाल एवं जस्टिस धर्मवीर शर्मा की व्यक्तिगत सुरक्षा के लिए अलग इंतजाम किए जा रहे हैं.

अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक बृज लाल ने पत्रकारों को बताया कि कुल मिलाकर लगभग दो हजार की फ़ोर्स तैनात होगी. इनमे केन्द्रीय रिज़र्व पुलिस और रैपिड एक्शन फ़ोर्स भी होगी. फ़ोर्स की निगरानी के लिए पुलिस अधिकारी और मजिस्ट्रेट भी तैनात किए जा रहे हैं.

इनकी मदद के लिए फायर ब्रिगेड, वाटर कैनन और आंसू गैस छोड़ने वाले उपकरण दिए जा रहे हैं. अदालत के बाहर और अंदर निगरानी कैमरे लगाए जाएंगे.

फैसला देने वाले तीनों जजों की सुरक्षा के लिए अलग से फ़ोर्स दी जा रही है.

उत्तर प्रदेश सरकार को अंदेशा है कि अदालत के फैसले से राज्य में शांति व्यवस्था की समस्या हो सकती है. इसकी रोकथाम के लिए पुलिस बड़े पैमाने पर व्यवस्था कर रही है. सुरक्षा के अलावा अस्पतालों में भी विशेष व्यवस्था की जा रही है.

गृह एवं पुलिस विभाग के आला अफसर जिलों का दौरा कर रहे है. वरिष्ठ पुलिस अधिकारी जिलों में अलग से तैनात किए जा रहे हैं.

पुलिस अधिकारी मोहल्लों और गाँवों में हिंदू – मुस्लिम समुदाय के लोगों से शांति बनाये रखने के लिखित वादे ले रहे हैं.

एक सवाल के जवाब में बृज लाल ने कहा कि जिलों के अधिकारी जन सहयोग लेने के लिए जरुरी उपाय कर रहे हैं. जहां आवश्यकता होगी लोगों से शांति कायम रखने के लिए मुचलके भी भराए जा रहे हैं.

इस बीच पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह ने 16 सितम्बर को अयोध्या जाने की घोषणा की है. छह दिसंबर 1992 को कल्याण सिंह विवादित मस्जिद की रक्षा करने का अपना वादा पूरा करने में विफल रहने के कारण बर्खास्त कर दिए गए थे. उस समय वह भारतीय जनता पार्टी के मुख्यमंत्री थे , जिसके कार्यकर्ताओं और उग्र समर्थकों ने विवादित मस्जिद को धराशायी कर दिया था. कल्याण सिंह इस समय अपनी अलग जन क्रांति पार्टी चला रहे हैं.

संबंधित समाचार