तृणमूल-सीपीएम झड़प में सात की मौत

फ़ाइल फ़ोटो
Image caption इस हिंसक झड़प में चार लोगों की मौत हो गई और अनेक लोग घायल हो गए हैं

पश्चिम बंगाल में सत्तारूढ़ मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (सीपीएम) और विपक्षी दल तृणमूल कांग्रेस के समर्थकों के बीच मंगलवार को हुई हिंसक झड़पों में सात लोगों की मौत हो गई है.

ये झड़पें तीन अलग अलग स्थानों पर हुईं.

पुलिस के अनुसार पूर्बस्थली में फ़ुटबॉल मैच को लेकर संघर्ष की शुरुआत हुई और बाद में इसने सीपीएम- तृणमूल समर्थकों के बीच संघर्ष का रूप ले लिया.

इस हिंसक झड़प में चार लोगों की मौत हो गई और अनेक लोग घायल हो गए.

दूसरा संघर्ष जमालपुर में हुआ. यहाँ सीपीएम-तृणमूल कार्यकर्ताओं के संघर्ष में दो लोगों मौत हो गई.

तीसरा संघर्ष बर्द्धमान में हुआ जहाँ एक व्यक्ति की मौत हो गई. इसमें अनेक लोग घायल हुए हैं जिनमें से छह की हालत गंभीर है.

इन झड़पों में देसी बमों और धारधार हथियारों का खुलकर इस्तेमाल किया गया.

एकदूसरे को दोष

दिलचस्प तथ्य ये है कि इन झड़पों के लिए दोनों पक्षों ने एकदूसरे को दोषी ठहराया है.

सीपीएम के नेता बिमान बोस ने कहा कि इन हमलों के लिए तृणमूल दोषी है तो दूसरी ओर तृणमूल नेता पार्थ चट्टोपाध्याय ने कहा कि राहुल गांधी के कारण सुरक्षाबलों का ध्यान दूसरी ओर था, इसका फ़ायदा उठाकर सीपीएम समर्थकों ने तृणमूल के कार्यकर्ताओं पर हमले किए.

उल्लेखनीय है कि विधानसभा चुनावों से पहले सत्ताधारी मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के समर्थकों और विपक्षी दल तृणमूल कांग्रेस के समर्थकों के बीच पूरे राज्य में हिंसक झड़पें तेज़ हो गई हैं

तृणमूल को लगता है कि इस बार के विधानसभा चुनाव में पश्चिम बंगाल में पिछले तीन दशकों से सत्ता पर क़ाबिज़ वाम दलों को उखाड़ फेंकने का उनके पास बेहतरीन मौक़ा है.

पश्चिम बंगाल में पिछले संसदीय चुनाव, पंचायत और नगर निगम के चुनाव में वाम दलों को भारी झटका लगा है और उन्हें हार का मुंह देखना पड़ा है.

संबंधित समाचार