ललित मोदी उच्चतम न्यायालय पहुँचे

ललित मोदी
Image caption मोदी का कहना है कि दो सदस्य उनके प्रति दुराग्रह रखते हैं

बीसीसीआई की अनुशासन समिति से दो सदस्यों को हटाने की अपनी मांग लेकर आईपीएल के निलंबित चेयरमैन ललित मोदी उच्चतम न्यायालय पहुँचे है.

उन्होंने अनुशासन समिति से चिरायु अमीन और अरुण जेटली को हटाने की मांग की है. उनका कहना है कि ये दोनों सदस्य उनके प्रति दुराग्रह रखते हैं.

ग़ौरतलब है कि अनुशासन समिति ललित मोदी के ख़िलाफ़ आर्थिक अनियमितता के आरोपों की जाँच कर रही है. तीन सदस्यीय इस समिति में ज्योतिरादित्य सिंधिया भी शामिल हैं.

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक़ इससे पहले 15 जुलाई को बॉम्बे हाईकोर्ट ने ललित मोदी की उस याचिका को ख़ारिज कर दिया था जिसमें उन्होंने बीसीसीआई की अनुशासन समिति को फिर से गठित करने की मांग की थी.

निलंबन को चुनौती

सुप्रीम कोर्ट में दायर अपील में मोदी ने बीसीसीआई से अपने निलंबन को भी चुनौती दी है. मोदी ने उन पर लगे सारे आरोपों की स्वतंत्र और निष्पक्ष जाँच की भी मांग की है.

बीसीसीआई के सचिव एन श्रीनिवासन के एक साथ बीसीसीआई के अधिकारी होने और आईपीएल की एक टीम के मालिक होने की जाँच की भी उन्होंने अपील की है.

इससे पहले बॉम्बे हाईकोर्ट ने मोदी की याचिका यह कह कर ख़ारिज कर दी थी कि अनुशासन समिति ख़ुद ही समिति के पुर्नगठन का फ़ैसला ले सकती है.

मोदी ने अपनी याचिका में कहा था कि वे चाहते हैं कि अनुशासन समिति के सदस्य वो लोग हों जो बीसीसीआई के सदस्य नहीं है. उनका कहना था कि बीसीसीआई के लोग उनके प्रति दुराग्रह रख सकते हैं.

मोदी ने बॉम्बे हाईकोर्ट में दायर याचिका में कहा था कि बीसीसीआई के सचिव एन श्रीनिवासन ने मीडिया में आई ख़बरों के आधार पर उनके ख़िलाफ़ 'अभियोग' लगाया है.

संबंधित समाचार