लोग शांति बनाए रखें: चिदंबरम

पी चिदंबरम

इलाहाबाद हाईकोर्ट अयोध्या विवाद पर 24 सितंबर को फ़ैसला सुनाने वाली है.

केंद्रीय गृहमंत्री पी चिदंबरम ने अयोध्या मामले पर 24 सितंबर को आने वाले इलाहाबाद हाई कोर्ट के फ़ैसले को देखते हुए लोगों से शांति और क़ानून व्यवस्था बनाए रखने की अपील की है.

गृहमंत्री ने बुधवार को कहा कि लोगों को इस फ़ैसले को 'एक क़ानूनी प्रक्रिया के ख़त्म होने के रूप में' लेना चाहिए.

उन्होंने कहा कि राज्य सरकार को फ़ैसला आने के बाद सभी ज़रूरी क़दम उठाने चाहिएं.

कांग्रेस का पक्ष

केंद्रीय गृहमंत्री ने सभी संगठनों और व्यक्तियों से अपील की कि वे कोई भी उत्तेजक या भड़काऊ बयान न जारी करें. उन्होंने लोगों से अफवाहें न फैलाने की अपील भी की है.

मैं सभी संगठनों से अपील करता हूँ कि वे कोई भी उत्तेजक या भड़काऊ बयान न जारी करें और लोग अफवाहें भी न फैलाएँ.

पी चिदंबरम, केंद्रीय गृहमंत्री

वहीं कांग्रेस प्रवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने पार्टी कार्यालय में आयोजित एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि अदालत जो भी फ़ैसला सुनाए दोनों पक्षों को उसे मानना चाहिए.

उन्होंने कहा कि बातचीत से इस समस्या का समाधान पहले किया जा सकता था लेकिन अब दोंनों पक्षों को अदालत के फ़ैसले का सम्मान करना चाहिए.

उल्लेखनीय है कि इलाहाबाद हाई कोर्ट को अयोध्या के उस विवादित ज़मीन पर फ़ैसला सुनाना है जहाँ छह दिसंबर 1992 को विवादित मस्जिद को तोड़कर अस्थायी राम मंदिर का निर्माण कर दिया गया था.

इस फ़ैसले को टालने के लिए बुधवार को एक याचिका सुप्रीम कोर्ट में दाखिल की गई लेकिन न्यायाधीश ने याचिका को दीवानी मामला बताते हुए दूसरी बेंच के सामने पेश करने को कहा है.

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.