'मेहमानों का स्वागत परंपराओं के अनुसार'

खेल गांव
Image caption बीबीसी हिंदी को मिली राष्ट्रमंडल खेल गाँव की तस्वीरों से पहली बार वहाँ की दुर्दशा की असली तस्वीर सामने आई है.

राष्ट्रमंडल खेलों की तैयारियों को लेकर चारों तरफ़ से हो रहे हमले के मद्देनज़र भारत के प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने गुरुवार शाम को एक आपातकाल बैठक की.

बैठक में कुछ केंद्रीय मंत्रियों के अलावा इस खेल के आयोजन से जुड़े अधिकारियों ने हिस्सा लिया.

कलमाडी अनुपस्थित

सबसे चौंकाने वाली बात थी आयोजन समिति के प्रमुख सुरेश कलमाडी का बैठक में नहीं बुलाया जाना, जिससे इस बात की अटकलें लगाई जाने लगीं कि कहीं उन्हें दरकिनार तो नहीं किया जा रहा है.

भारतीय मीडिया में इस तरह की ख़बरें हैं कि प्रधानमंत्री सुरेश कलमाडी से काफ़ी नाराज़ हैं.

यह बैठक अंतरराष्ट्रीय प्रतिनिधियों द्वारा खेल गांव को गंदा और नहीं रहने योग्य बताए जाने के दो दिन बाद हुई. लगभग डेढ़ घंटे तक चली बैठक के दौरान मनमोहन सिंह ने शहरी विकास मंत्री जयपाल रेड्डी, खेल मंत्री एम एस गिल, लेफ्टिनेंट गवर्नर तेजिंदर खन्ना और मुख्यमंत्री शीला दीक्षित से राष्ट्रमंडल खेलों की तैयारियों का विस्तृत ब्योरा लिया.

बैठक के बाद तेजिंदर खन्ना ने बीबीसी से बातचीत में कहा कि ''प्रधानमंत्री को राष्ट्रमंडल खेलों की तैयारी की स्थिति के बारे में जानकारी दी गई. उन्हें सूचित किया गया कि खेल सुविधाओं और गांव को अपेक्षित मानक का तैयार करने के लिए हर संभव प्रयास किए जा रहें हैं.’’ लेफ्टिनेंट गवर्नर ने यक़ीन दिलाया कि मेहमानों की अगवानी और स्वागत भारत के आतिथ्य की सर्वश्रेष्ठ परंपराओं के अनुसार किया जाएगा.

फ़ेनेल मिलेंगे कैबिनेट सचिव से

कॉमनवेल्थ गेम्स फ़ेडरेशन के प्रमुख माइकल फ़ेनेल की प्रधानमंत्री से मुलाका़त के बारे में तेजिंदर खन्ना ने इशारे में कहा कि प्रोटोकॉल का ख़याल रखते हुए प्रधानमंत्री के लिए माइकल फ़ेनेल को मिलने का समय देना संभव नहीं होगा.

खन्ना ने बताया कि प्रधानमंत्री ने कैबिनेट सचिव के एम चंद्रशेख़र से कहा है कि वो शुक्रवार को माइकल फ़ेनेल से मिलें और उन्हें तैयारियों के बारे में जानकारी दें.

फ़ेनेल शुक्रवार को खेलगांव का निरीक्षण करेंगे जहां अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ियों के ठहरने का इंतज़ाम किया गया है.

जयपाल रेड्डी और एम एस गिल के अलावा बैठक में कैबिनेट सचिव चंद्रशेखर, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार शिवशंकर मेनन और गृह सचिव जी के पिल्लई भी शामिल हुए.

संबंधित समाचार