नक्सलवादियों के अल्टीमेटम की समयसीमा

छत्तीसगढ़ के बीजापुर ज़िले के तर्लागुडा से अपह्त चार पुलिसकर्मियों को लेकर नक्सलवादियों के 48 घंटे के अल्टीमेटम की समयसीमा मंगलवार शाम समाप्त हो रही है.

लेकिन अब तक इस मामले का कोई हल निकलता नज़र नहीं आ रहा है.

इतने दिन हो गए मगर राज्य के वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों की ओर से अपह्रत पुलिसकर्मियों की रिहाई के लिए कोई पहल नहीं की गई है.

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री रमन सिंह ने ज़रूर माओवादियों के नाम एक अपील जारी की थी जो बहुत ही अनौपचारिक सी थी.

उल्लेखनीय है कि नक्सलवादियों ने शनिवार रात को पर्चे छोड़े थे कि यदि उनकी माँगें नहीं मानी गईं तो वे पुलिसकर्मियों को मार देंगे.

नक्सलवादियों ने कहा है कि जेलों में बंद उनके साथियों को छोड़ा जाए, फ़र्ज़ी मुठभेड़ों की जाँच की जाए और सरकार वार्ता की पहल करे.

दरअसल 19 सितंबर को नक्सलवादियों ने सात पुलिसकर्मियों का अपहरण किया था, दो दिन बाद उनमें से तीन पुलिसकर्मियों की लाश देपला के जंगलों से बरामद की गई जबकि बाक़ी के चार पुलिसकर्मियों का अब तक कोई अता पता नहीं है.

ये सभी पुलिसकर्मी बीजापुर के भद्रकाली पुलिस स्टेशन में तैनात थे.

19 सितंबर को भोपालपटनम के साप्ताहिक हाट से लौटते हुए सशस्त्र नक्सलवादियों ने उनका अपहरण कर लिया था.

अपह्रत पुलिसकर्मियों के परिवारवालों ने माओवादियों से पुलिसकर्मियों को छोड़ने की अपील की है.

संबंधित समाचार