कांग्रेस ने किया फ़ैसले का स्वागत

अयोध्या में लोग
Image caption केंद्रीय क़ानून मंत्री ने कहा है कि पूरा फ़ैसला पढ़ने के बाद प्रतिक्रिया देंगे.

अयोध्या के विवादित स्थल पर इलाहाबाद हाई कोर्ट के गुरुवार को आए फ़ैसले का कांग्रेस पार्टी ने स्वागत किया है.

फ़ैसला आने के बाद कांग्रेस मुख्यालय में आयोजित एक संवाददता सम्मेलन में कांग्रेस प्रवक्ता जनार्दन द्विवेदी ने कहा कि अदालत ने जो भी फ़ैसला दिया है,वह सभी पक्षों को मान्य होना चाहिए.

उन्होंने कहा कि हाई कोर्ट के इस फ़ैसले से जो भी संगठन या व्यक्ति ख़ुश न हो वह इसके खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में अपील कर सकता है.

हार या जीत नहीं

उन्होंने कहा कि यह फ़ैसला न तो किसी पक्ष की हार है और न ही किसी पक्ष की जीत है.

उन्होंने कहा कि कांग्रेस का मानना रहा है कि इस मामले का हल या तो बातचीत से होना चाहिए या अदालत का फ़ैसला मानना चाहिए. अब अदालत ने फ़ैसला दे दिया है. हम सबको फ़ैसले का स्वागत करना चाहिए.

कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा कि किसी भी पक्ष को इस फ़ैसले की अनुचित व्याख्या, दुष्प्रचार या किसी तरह की अफवाह नहीं फैलानी चाहिए क्योंकि यह देश के हित में नहीं होगा.

उन्होंने कहा कि यह राजनीतिक पार्टियों, सामाजिक संगठनों और देश के नागरिकों की ज़िम्मेदारी है कि वे समाज का माहौल न बिगड़ने दें. लोगों को फ़ैसले के मुताबिक आचरण करना चाहिए.

उधर, केंद्रीय क़ानून और न्याय मंत्री एम वीरप्पा मोइली ने इस फ़ैसले पर अपनी प्रतिक्रिया में कहा कि इस मामले में कई तरह के बयान आ रहे हैं. कुछ बयान वकील भी दे रहे हैं.

उन्होंने कहा कि पूरे फ़ैसले को सामने आने दीजिए, उसके बाद ही हम अदालत के इस फ़ैसले पर कोई प्रतिक्रिया देने की स्थिति में होंगे.

संबंधित समाचार