बलात्कार और हत्या मामले में उम्रक़ैद

कॉल सेंटर
Image caption प्रतिभा, बंगलौर के एक कॉल सेंटर में काम करती थीं.

बंगलौर के चर्चित प्रतिभा मूर्ति बलात्कार और हत्याकांड मामले में फास्ट ट्रैक अदालत ने शुक्रवार को दोषी कार चालक शिव कुमार को उम्रक़ैद की सज़ा सुनाई है.

इससे पहले बुधवार को शिव कुमार को अदालत ने प्रतिभा के बलात्कार और हत्या का दोषी क़रार दिया था.

लेकिन अदालत के इस फ़ैसले से प्रतिभा के परिवार वाले पूरी तरह संतुष्ट नहीं हैं.

सज़ा सुनाए जाने के बाद अदालत के बाहर पत्रकारों से बात करते हुए प्रतिभा की माँ रो पड़ीं.

प्रतिभा की माँ गौरम्मा ने कहा कि ''इससे प्रतिभा की आत्मा को कुछ शांति मिलेगी. मेरी खुशियाँ तो प्रतिभा की मौत के साथ चली गईँ.''

प्रतिभा के पति पवन शेट्टी ने भी कहा कि वो अदालत के फ़ैसले को स्वीकार करते हैं लेकिन अदालत अगर क़ातिल को मौत की सज़ा सुनाती तो उन्हें ज़्यादा ख़ुशी होती.

लेकिन अभियोजन पक्ष के वकील वीके पाटिल ने कहा कि शिव कुमार को पूरी ज़िंदगी के लिए जेल मे रहना होगा सिर्फ़ 14 साल के लिए नहीं.

उन्होंने कहा कि वो इस फ़ैसले से संतुष्ट हैं और इसे आगे नहीं ले जाना चाहेंगे.

मामला

यह मामला पाँच साल पुराना है.

प्रतिभा ग्लोबलसॉफ्ट नाम की बीपीओ कंपनी में काम करती थी.

13 दिसंबर, 2005 को शिवकुमार कैब लेकर प्रतिभा के घर पहुँचा और कहा कि ऑफिस का ड्राइवर किसी वजह से नहीं आया है इसलिए प्रतिभा को लेने के लिए वह आया है.

शिव कुमार प्रतिभा को एक सुनसान जगह ले गया और मौक़े का फ़ायदा उठाकर उसके साथ बलात्कार किया और फिर उसकी हत्या कर दी.

संबंधित समाचार