उपवास ने ली जान

अजमेर
Image caption ख्वाजा मोईनुद्दीन चिश्ती की दरगाह पर विश्व भर से लोग ज़ियारत के लिए आते हैं.

राजस्थान के विश्व प्रसिद्ध अजमेर शरीफ़ दरगाह में उपवास कर रहे तीन लोगो की मौत हो गई है जबकि 10 अन्य की हालत नाजुक है.

इन 10 लोगों को अजमेर के स्थानीय अस्पताल में दाखि़ल कराया गया है.

पुलिस के मुताबिक उत्तर प्रदेश से जि़या़रत के लिए आए ये लोग हफ्तों से भूखे रहकर इबादत कर रहे थे.

इनमे से तीन की सोमवार को दरगाह परिसर में मौत हो गई.

अजमेर मे सूफी संत खाव्जा मोईनुद्दीन चिश्ती की दरगाह है और विश्व भर से लोग यहाँ ज़ियारत के लिए आते हैं.

सूचना के मुताबिक़ कठिन ‘उपवास’ का शिकार हुआ इलाहबाद का यह परिवार पढ़े-लिखे तबक़े से है और परिवार के दो सदस्य मर्चेंट नेवी में काम करते हैं.

इन लोगों का कहना था कि किसी ने सपने में उन्हें भूखे पेट इबादत करने का हुकम दिया था लिहाज़ा इन लागों ने हफ्तों से खाना खाना बंद कर दिया था.

पुलिस का कहना है कि अस्पताल में दाखिल कराए गए दसों लोग उपचार करवाने से भी मना कर रहे थे और कह रहे थे ये उनकी प्रार्थना का हिस्सा है.

अजमेर के पुलिस अधीक्षक हरिप्रसाद शर्मा का कहना था कि काफी समझाने के बाद वह इलाज के लिए तैयार हुए.

संबंधित समाचार