मुठभेड़ ख़त्म, दो चरमपंथियों की मौत

भारत प्रशासित कश्मीर में सेना और पुलिस ने गुरुवार दिन भर चले एक संघर्ष के दौरान दो चरमपंथियों को मार दिया है. मारे गए चरमपंथियों के बारे में बताया जाता है कि वे चरमपंथी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के सदस्य थे.

सुरक्षा बलों ने श्रीनगर के निकट मलुरा गांव को बुधवार की रात घेरे में ले लिया था जहां उन्हें तीन चरमपंथियों की मौजूदगी की सूचना मिली थी.

संघर्ष गुरुवार प्रात: शुरु हुआ और दिन भर जारी रहा.

संघर्ष के दौरान सुरक्षा बलों ने दो रिहाइशी मकान नष्ट कर दिए, इसके अलावा कुछ अन्य मकानों को भी नुक़सान पहुंचा.

सेना के एक उच्च अधिकारी मेजर जनरल थोडगी ने बीबीसी को बताया कि संघर्ष के दौरान कोई सैनिक या आम नागरिक हताहत नहीं हुआ. उन्होंने कहा कि सुरक्षा बलों ने आम नागरिकों को पहले ही सुरक्षित निकाल लिया था.

महिला और बच्चों को कोई हानि ना हो इसका ख़ास ख़्याल रखा गया था और इसी कारण पूरे ऑपरेशन में इतनी देर लगी.

उल्लेखनीय है कि भारत प्रशासित कश्मीर में गत वर्षो में सशस्त्र अलगाववादी हिंसा बहुत कम हो गई है.

श्रीनगर के निकट इस प्रकार का संघर्ष काफ़ी समय के बाद हुआ है. सुरक्षा बलों के अनुसार स्थिति में सुधार हुआ है लेकिन उनका कहना है कि सुरक्षा बल इसमें कोई कमी नहीं कर सकते क्योंकि नियंत्रण रेखा की दूसरी ओर से घुसपैठ की कोशिशे तेज़ हो गई हैं.

सुरक्षा बलों के अनुसार चरमपंथियों की कोशिश है कि वो पहाड़ों पर बर्फ़ गिरने से पहले ज़्यादा से ज़्यादा संख्या में भारत प्रशासित कश्मीर में दाख़िल हो सकें.

संबंधित समाचार