'मैंगलोर दुर्घटना के लिए पायलट ज़िम्मेदार'

मैंगलोर विमान दुर्घटना

भारतीय मीडिया की ख़बरों में कहा जा रहा है कि इस साल मई में कर्नाटक के मैंगलोर में हुई विमान दुर्घटना की आधिकारिक जाँच में दुर्घटना के लिए विमान के पायलट को ज़िम्मेदार ठहराया है.

इस विमान में चालक दल के छह सदस्यों समेत 166 लोग सवार थे. इनमें से 158 लोगों की मौत हो गई थी.

ये रिपोर्ट सार्वजनिक रूप से जारी नहीं कही गई है लेकिन मीडिया आधिकारिक सूत्रों के हवाले से कह रहा है कि पायलट ने विमान दुर्घटना से पहले कई चेतावनियों की अनदेखी की.

ये रिपोर्ट मीडिया को लीक हुई है जिसमें कहा गया है कि दुबई से मैंगलोर जा रहे एयर इंडिया एक्सप्रेस के इस विमान का पायलट आधी उड़ान के दौरान सोता रहा.

विमान के कॉकपिट वॉइस रिकॉर्डर में उसके खर्राटों की आवाज़ साफ़ सुनाई दे रही है.

इस आधार पर कहा जा रहा है कि जब विमान उतरने लगा तो पायलट सक्रिय नहीं था और उसने रनवे पर ग़लत जगह से विमान उतराने की कोशिश की और सह पायलट की अनेक चेतावनियों की अनदेखी की.

उल्लेखनीय है कि मैंगलोर के जिस हवाई अड्डे पर विमान को उतरना था, वह बेहद छोटा और पहाड़ी की चोटी पर बना हवाई अड्डा है.

737 बोइंग उतरने के बाद रनवे पर तेज़ी से आगे बढ़ता गया और पहाड़ी से नीचे गिर गया. हादसे की वजह से विमान में आग लग गई थी.

ये भारत की एक दशक में हुई सबसे बड़ी विमान दुर्घटना थी और इसमें केवल आठ लोगों की ही जान बच पाई थी.

संबंधित समाचार