'युवराज' से 'आम आदमी' बनने की कोशिश

राहुल गांधी

‘युवराज' से ' आम आदमी जैसा ' बनने की कोशिश में राहुल गांधी ने बुधवार को लखनऊ के एक रेस्तरां में अचानक पहुँच कर भोजन किया और वहाँ एक पार्टी के लिए जुटी महिलाओं को आनंद - मिश्रित आश्चर्य में डाल दिया.

बकरीद के दिन सुबह-सुबह राहुल गांधी पहले अपने चुनाव क्षेत्र अमेठी की ईदगाह में गए. सफ़ेद कुर्ता और टोपी पहने राहुल गांधी ने वहाँ लोगों से गले मिलकर ईद की बधाइयाँ दी.

इसके बाद उनका काफ़िला करीब साढ़े बारह बजे लखनऊ पहुंचा. यहाँ वह राज भवन के सामने एक सामान्य रेस्तरां गए , जहां अक्सर पारिवारिक जन्म दिन अथवा किटी पार्टी के लिए आयोजन होते रहते हैं.

रेस्तरां वालों ने उन्हें पहली मंज़िल पर मेज़ दी , जहां कुछ महिलाओं की पार्टी चल रही थी. अचानक अपने बीच राहुल गांधी को देख महिलाओं को सुखद आश्चर्य हुआ. उन लोगों ने राहुल के साथ फ़ोटो खिंचाने की इच्छा उनके सुरक्षा गार्ड से जताई. इस पर कहा कहा गया कि भोजन के बाद देखा जाएगा.

महिलाएँ उनके भोजन पर निगाह गडाए रहीं. राहुल ने फ्रेश लाइम सोडा , चिकन काठी रोल और क्रिस्पी बेबी कॉर्न वगैरह खाया और चलते समय महिलाओं के साथ फ़ोटो खिंचाई. मगर जल्दी में होने की वजह से ऑटोग्राफ़ नहीं दिया.

राहुल की मुहिम

अंदर राहुल खाना खा रहे थे और बाहर मीडिया जमा हो चुका था. राहुल जल्दी - जल्दी रेस्तरां से निकले , गार्ड से हाथ मिलाया और फटाफट कार में बैठकर चल दिए.

उनका काफ़िला सीधे राज भवन में घुस गया और थोड़ी देर बाद वह वहाँ से दिल्ली जाने के लिए हवाई अड्डे चले गए.

राहुल के जाने के बाद नीता , प्रियंका टंडन एवं अन्य महिलाओं ने मीडिया के लोगों को राहुल के अचानक उनके बीच आने और भोजन करने का किस्सा बताया.उन लोगों ने अपने कैमरों और मोबाइल फोन में कैद राहुल गांधी की तस्वीरें पत्रकारों को दिखाईं.

इससे पहले राहुल गांधी ने दो दिन तक अमेठी में विभिन्न कार्यक्रमों में हिस्सा लिया. एक कॉलेज की प्रदर्शनी में एक लड़की से अपने हाथ में मेंहदी लगवाई , गोल गप्पे खाए, पान खरीदा और राइफल से निशाना भी साधा.

लखनऊ दौरा

कुछ रोज़ पहले ही वह अचानक एक रेगुलर फ्लाईट से लखनऊ आए थे और युवक कांग्रेस के कार्यक्रम में हिस्सा लिया था.

गाँवों में दलित और गरीब बस्तियों में जाने , हालचाल लेने , खाने और हैंड पम्प में नहाने के उनके किस्से तो सबको मालूम हैं ही.

राहुल के दलित बस्तियों में जाने से मायावती विशेष रूप से चिढ़ जाती थीं और इसे एक नाटक कहकर आलोचना करती थीं.

उत्तर प्रदेश सरकार ने इस बात पर भी एतराज़ जताया है कि राहुल गांधी बिना पूर्व सूचना दिए इस तरह लोगों के बीच चले जाते हैं , जो सुरक्षा नियमों के खिलाफ़ है.

पर राहुल गांधी ने उत्तर प्रदेश सरकार की इस आपत्ति पर ध्यान नहीं दिया.

मीडिया के लोग पहले राहुल गांधी के लिए युवराज शब्द का इस्तेमाल करते थे, जिस पर वह एतराज़ करते रहे हैं और कहते थे कि वो भी एक आम आदमी हैं.

आम आदमी जैसा दिखने की राहुल गांधी की कोशिश भले बढ़ गई है , पर सबको मालूम है कि आम आदमी रेस्तरां में भोजन करके राहुल गांधी की तरह सीधे राज भवन में नही घुस सकता.

संबंधित समाचार