येदुरप्पा ने कहा, क्यों छोड़ूँ पद

येदुरप्पा
Image caption कांग्रेस और जनता दल एस येदुरप्पा के इस्तीफ़े की मांग कर रही है

भूमि आवंटन के विवाद में फँसे कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदुरप्पा ने शनिवार को कहा कि उन्होंने कुछ ग़लत नहीं किया है और वो त्यागपत्र नहीं देंगे.

कर्नाटक के शहर हुबली में पत्रकारों से बातचीत करते हुए येदुरप्पा ने कहा, "मैं क्यों इस्तीफ़ा दूँ, मैंने कोई अपराध नहीं किया है, मैंने कोई ग़लती नहीं की है."

उन्होंने ज़ोर देकर कहा कि नेतृत्व में परिवर्तन का सवाल ही नहीं पैदा होता वो भी तब जब राज्य सरकार का कार्यकाल पूरा होने में ढाई साल बाक़ी हैं.

शुक्रवार को राजधानी दिल्ली में भाजपा की कोर कमेटी की बैठक में भूमि आवंटन के मुद्दे और विकल्पों पर विचार-विमर्श किया गया था.

ये बैठक पार्टी अध्यक्ष नीतिन गडकरी के घर पर हुई थी और इसमें येदुरप्पा भी शामिल हुए थे.

भाजपा ने यह बैठक कांग्रेस के उन बयानों के बाद बुलाई थी जिसमें कहा गया था कि यूपीए सरकार पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाने से पहले भाजपा को कर्नाटक के मुख्यमंत्री के ख़िलाफ़ कार्रवाई करनी चाहिए.

इससे पहले कर्नाटक की सरकार रेड्डी बंधुओं के कथित खनन घोटालों को लेकर विवाद में आ चुकी है.

जाँच के आदेश

मुख्यमंत्री का कहना था कि इस मामले की जांच सुप्रीम कोर्ट के सेवानिवृत जज करेंगे और उन्हें छह महीने के भीतर रिपोर्ट सौंपने को कहा जाएगा.

साथ ही उनका कहना था कि उनके बेटे और बेटी ने आवंटित हुई ज़मीनें लौटा दी हैं. इसके अलावा उनके दो रिश्तेदारों ने भी ज़मीन लौटा दी है.

उन्होंने कहना था कि विपक्ष राज्य के विकास के लिए किए गए उनके काम को पचा नहीं पा रही है इसलिए उनके ख़िलाफ़ इस तरह के आरोप लगा रही है.

इससे पहले येदुरप्पा ने कहा था कि उन्होंने अपने परिजनों को ज़मीन देकर किसी नियम का उल्लंघन नहीं किया है और उनके पहले मुख्यमंत्री रहे लोगों ने भी ज़मीनें आवंटित की थीं.

संबंधित समाचार