नवी मुंबई एयरपोर्ट को हरी झंडी

नवी मुंबई
Image caption नवी मुंबई एयरपोर्ट को लेकर वन मंत्रालय ने कई आपत्तियां की थीं.

केंद्रीय पर्यावरण एवं वन मंत्रालय ने नवी मुंबई में नए एयरपोर्ट को हरी झंडी दे दी है.

दिल्ली में पर्यावरण मंत्री जयराम रमेश ने इस बारे में जानकारी दी.

एक संयुक्त पत्रकार वार्ता में जयराम रमेश ने कहा कि मंत्रालय को नवी मुंबई एयरपोर्ट से कई पर्यावरण संबंधी आपत्तियां थीं जिन पर काफ़ी विचार विमर्श के बाद समझौता हो गया है.

प्रेस वार्ता में महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चौहान और नागरिक उड्डयन मंत्री प्रफुल्ल पटेल भी मौजूद थे जिन्होंने पर्यावरणीय अनुमति के लिए पर्यावरण मंत्री को धन्यवाद दिया.

जयराम रमेश का कहना था, ‘‘ हमने मुख्य रुप से तीन बातें उठाई थीं. गाधी नदी का रास्ता बदलने, मैनग्रोव जंगलों ( मीठे और खारे पानी के सम्मिश्रण में पैदा होने वाले जंगल) को बचाने और एक पहाड़ी को समाप्त करने के मामले को उठाया था.’’

मंत्री के अनुसार उड्डयन मंत्रालय और महाराष्ट्र सरकार इस बात राज़ी हो गए कि गाधी नदी का रास्ता न बदला और साथ ही मैनग्रोव जंगलों को बचाने का हरसंभव उपाय हो.

उनका कहना था, ‘‘ जो सुविधाएं एयरपोर्ट के लिए बिल्कुल ज़रुरी नहीं थी उन्हें अलग स्थानों पर ले जाया जाएगा जिससे 245 हेक्टेयर में फैला मैनग्रोव जंगल बचेगा. दो रनवे के बीच की दूरी को घटाया गया है जिससे गाधी नदी को मोड़ने की ज़रुरत नहीं पड़ेगी.’’

रमेश का कहना था कि एयरपोर्ट प्राधिकरण मोहा और पनवेल क्रीक इलाक़े में एक नया मैनग्रोव पार्क विकसित करेगा जो 60 हेक्टेयर में फैला होगा. साथ ही एयरपोर्ट के उत्तर पूर्व में गाधी नदी और मानखुर्द पनवेल रेल कॉरीडोर के बीच 310 हेक्टेयर इलाक़े में ग्रीन जोन घोषित किया जाएगा.

मंत्री के अनुसार एयरपोर्ट निर्माण इलाक़े में एक ऊंची पहाड़ी को नहीं बचाया जा सका और इस मुद्दे पर उन्हें समझौता करना पडा है.

उनका कहना था, ‘‘ एयरपोर्ट के रास्ते में 90 मीटर ऊँचा पहाड़ है. कई लोगों ने उसमें खनन कर डाला है जिससे उसकी पर्यावरणीय वैल्यू कम हो गई है इसलिए हम इसे तोड़ने पर राज़ी हो गए हैं. इस समझौते में एक और नुकसान है कि क़रीब 98 हेक्टेयर मैनग्रोव वन नष्ट होंगे हालांकि वो निम्नस्तरीय मैनग्रोव हैं. इसके अलावा उल्वे वॉटर बॉडी का रुख मोड़ने की ज़रुरत है जिसके लिए कई उपाय किए जा रहे हैं.’’

केंद्रीय मंत्री के अनुसार मंत्रालय ने नवी मुंबई एयरपोर्ट मामले में कई बातें मनवाई हैं और कुछ मामलों में समझौता किया है.