बंगाल में बड़ा 'माओवादी नेता' गिरफ़्तार

नक्सलवादी

पश्चिम बंगाल पुलिस ने कई माओवादी नेताओं समेत एक बड़े नेता को गिरफ़्तार करने का दावा किया है.

कोलकाता पुलिस की स्पेशल टास्क फ़ोर्स के प्रमुख राजीव कुमार ने बीबीसी को बताया, “माओवादी पार्टी की पश्चिम बंगाल ईकाई के नेता सुदीप चोंगदर यानी कंचन और तीन अन्य लोगों को शुक्रवार को गिरफ़्तार किया गया.”

लेकिन माओवादी पार्टी के सूत्रों का कहना है कि ये सब लोग दरअसल पिछले हफ़्ते से ही पुलिस हिरासत में हैं.

कई मामलों में पुलिस को सुदीप चोंगदर की तलाश थी. वर्ष 2008 में राज्य के मुख्यमंत्री बुद्धदेब भट्टाचार्या का काफ़िला बारुदी सुरंग विस्फ़ोट का शिकार हुआ था.

आरोप है कि ये हमला कथित तौर पर माओवादियों ने करवाया था और सुदीप इस हमले के मुख्य अभियुक्त माने जाते हैं.

अहम गिरफ़्तारी

पहले सौमन उर्फ़ हिमाद्री सेन सीपीआई-माओवादी के सचिव थे जिन्हें 2008 में गिरफ़्तार कर लिया गया था. उसके बाद सुदीप सचिव बने थे.

माओवादी नेता तेलगू दीपक की कोलकाता से गिरफ़्तारी के बाद सुदीप की गिरफ़्तारी को सबसे अहम माना जा रहा है.

पश्चिम मिदनापोर के सुदीप चोंगदर को पहले भी एक बार पकड़ा गया था लेकिन फिर दो साल बाद छोड़ दिया गया था.

उन्होंने माओवाद का रास्ता करीब 20 साल पहले चुना. उन्हें मिदनापोर, पुरुलिया और बांकुरा में संगठन को मज़बूत करने के लिए ज़िम्मेदार माना जाता है. ये इलाक़े अब माओवादियों के गढ़ माने जाते हैं.

इस गिरफ़्तारी की निंदा करते हुए माओवादी समर्थक नागरिक संगठन बंदी मुक्ति ने कहा है कि सुदीप को जल्द से जल्द कोर्ट में पेश किया जाए.

.

संबंधित समाचार