टमाटर चला प्याज़ की राह

प्याज़ की आसमान छूती क़ीमतों के बाद अब दिल्ली के लोगों की जेब पर टमाटर की सेंध लगनी शुरू हो गई है.

टमाटर इस समय प्रति किलो 40 रुपये के भाव पर बिक रहा है. दस दिन पहले इसकी क़ीमत 15 से 20 रुपये प्रति किलो थी.

अचानक टमाटर के दाम में आई इस तेज़ी के पीछे तात्कालिक कारण सप्लाई में कमी को बताया जा रहा है.

दिल्ली की मुख्य सब्ज़ी मंडी आज़ादपुर में टमाटर की सामान्य आपूर्ति रोज़ाना क़रीब 40 ट्रक की हुआ करती थी, जबकि आजकल बमुश्किल 8 से 10 ट्रक टमाटर ही यहाँ आ पा रहे हैं.

जहाँ दूरगामी कारण की बात है तो आज़ादपुर मंडी के कई व्यवसायी बीते दिनों में पाकिस्तान को हुए निर्यात को इसकी प्रमुख वज़ह बताते हैं. हालाँकि वे मध्यप्रदेश और गुजरात के टमाटर उत्पादक इलाक़ों में बेमौसम की बरसात को भी बढ़ती क़ीमतों के लिए ज़िम्मेवार मानते हैं.

प्याज़ के आँसू

उधर प्याज़ की आसमान छूती क़ीमत को लेकर दिल्ली समेत देश के कई हिस्सों में हाहाकार की स्थित बनी हुई है.

केंद्र सरकार ने प्याज़ के निर्यात पर रोक और इसके आयात पर शुल्क को ख़त्म करने समेत कई उपाय किए हैं, लेकिन दाम में ढंग की कमी होने में अभी कई हफ़्ते लग सकते हैं.

ख़ुद कृषि मंत्री शरद पवार का मानना है कि प्याज़ को लेकर स्थिति बेहतर होने में तीन सप्ताह तक लगेंगे.

पिछले कुछ महीनों में महाराष्ट्र और राजस्थान में हुई बारिश से इन राज्यों के कई इलाक़ों में प्याज़ की फ़सल नष्ट हो गई थी.

संबंधित समाचार