प्रधानमंत्री के प्रस्ताव पर हो सकता है विचार

मनमोहन सिंह इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption मनमोहन सिंह ने समिति के सामने पेश होने का प्रस्ताव रखा था

लोक लेखा समिति के चेयरमैन मुरली मनोहर जोशी ने कहा है कि प्रधानमंत्री की समिति के सामने पेश होने की पेशकश के बारे में समिति फ़ैसला करेगी.

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठ नेता मुरली मनोहर जोशी ने कहा, "सभी प्रक्रिया और नियमों का ध्यान रखते हुए अगर ज़रूरी हुआ तो प्रधानमंत्री की समिति के सामने पेश होने की पेशकश पर विचार किया जाएगा."

उन्होंने कहा कि सदन के स्पीकर से अनुमति के बाद ही मंत्रियों को पूछताछ के लिए बुलाया जा सकता है.

संसद भवन में हुए एक संवाददाता सम्मेलन में उन्होंने स्पष्ट किया कि समिति ने प्रधानमंत्री को समन नहीं जारी किया है. सोमवार को 2-जी स्पैक्ट्रम मामले की जाँच कर रही पीएसी के सामने नियंत्रक और महालेखा परीक्षक (सीएजी) विनोद राय पेश हुए.

पेशकश

उन्होंने पीएसी के सामने 1.76 करोड़ के घोटाले का विवरण पेश किया. मुरली मनोहर जोशी ने यह भी स्पष्ट किया कि सीएजी को पेश होने के लिए समन जारी नहीं किया गया था.

पिछले दिनों कांग्रेस के महाधिवेशन में प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कहा था कि वे पीएसी के सामने पेश होने को तैयार हैं. सोमवार को उन्होंने पीएसी को पत्र लिखकर समिति के सामने पेश होने का प्रस्ताव रखा है.

मुरली मनोहर जोशी ने यह भी स्पष्ट किया कि समिति वर्ष 2004 के पहले के रिकॉर्ड्स को भी देख सकती है.

कांग्रेस और प्रमुख विपक्षी भाजपा में 2-जी स्पैक्ट्रम घोटाले को लेकर काफ़ी तकरार होती रही है.

पिछले दिनों कांग्रेस ने आरोप लगाया था कि स्पैक्ट्रम लाइसेंस आबंटन का मामला 2001 से चल रहा है और उस समय भाजपा के नेतृत्व में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन की सरकार थी.

संबंधित समाचार