'जाँच के बाद साझा करेंगे जानकारी'

समझौता धमाका
Image caption समझौता धमाका वर्ष 2007 में हुआ था

भारत ने कहा है कि वो समझौता धमाके की जाँच पूरी होने के बाद पाकिस्तान के साथ जानकारी साझा करेगा. पिछले दिनों पाकिस्तान ने समझौता धमाके की जाँच रिपोर्ट की मांग की थी.

नई दिल्ली में पत्रकारों के साथ बातचीत में केंद्रीय गृह सचिव जीके पिल्लई ने कहा कि भारत पाकिस्तान की चिंता समझ सकता है क्योंकि इस धमाके में कई पाकिस्तानी नागरिक मारे गए थे.

उन्होंने कहा, "जाँच अभी पूरी नहीं हुई है. जाँच चल रही है. एक बार जाँच पूरी हो जाए और चार्जशीट दाख़िल हो जाए तो हम पाकिस्तान के साथ सूचनाएँ ज़रूर साझा करेंगे."

18 फरवरी 2007 को समझौता एक्सप्रेस में धमाका हुआ था, जिसमें 68 लोग मारे गए थे. मारे गए अधिकतर लोग पाकिस्तान के थे. इस मामले में गिरफ़्तार स्वामी असीमानंद से पूछताछ चल रही है.

समझौता धमाका

पिछले दिनों भारत की राष्ट्रीय जाँच एजेंसी (एनआईए) ने अजमेर धमाकों की जाँच के दौरान ये दावा किया था कि इस मामले में गिरफ़्तार लोगों के तार समझौता धमाके से भी जुड़े हो सकते हैं.

एनआईए ने गिरफ़्तार लोगों से समझौता धमाके के मामले में पूछताछ के लिए अदालत से अनुमति मांगी थी, जो उन्हें मिली भी थी.

एनआईए ने राजस्थान पुलिस की ओर से अजमेर धमाकों में दाखिल चार्जशीट के विवरण को इस मामले में आधार बनाया था.

इस चार्जशीट में पुलिस ने कहा था कि समझौता एक्सप्रेस में हुए विस्फोट के सबूत और तरीक़े इशारा करते हैं कि इस घटना में भी अजमेर धमाकों में पकड़े गए लोगों का हाथ हो सकता है.

समझौता एक्सप्रेस विस्फोट में इस्तेमाल सामग्री, उपकरण और लोग मध्य प्रदेश के इंदौर से वास्ता रखते हैं. अजमेर घटना में भी यही लोग शक के दायरे में हैं और वैसे ही सामग्री की इस्तेमाल किया गया था.

संबंधित समाचार