'गवाह के तौर पर पेश हो सीएजी'

ए राजा
Image caption सीएजी की रिपोर्ट में 2 जी स्पैक्ट्रम आबंटन में भारी अनियमितताओं की ओर संकेत दिए गए है.

दिल्ली हाई कोर्ट ने 2जी मामले पर एक याचिका की सुनवाई के दौरान नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक विनोद राय और सीएजी के निदेशक आरपी सिंह को अदालत में बतौर गवाह पेश होने को कहा है.

अदालत सुब्रामण्यम स्वामी की उस याचिका पर सुनवाई कर रही थी जिसमें स्वामी ने 2जी मामले में पूर्व संचार मंत्री ए राजा पर अपराधिक मामला दर्ज करने की अपील है.

हाई कोर्ट के विशेष सीबीआई जज ने नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक के अधिकारियों को पांच फ़रवरी को अदालत में गवाही देने के लिए बुलाया है.

2जी स्पैक्ट्रम आबंटन में हुई कथित अनियमितताओं की ओर संकेत करने वाली नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक की रिपोर्ट संसद में पेश की जा चुकी है.

उस रिपोर्ट में कहा गया है कि 2जी स्पैक्ट्रम के आबंटन में संचार मंत्रालय के ग़लत नीतियों के कारण देश को 1.76 लाख करोड़ का नुक़सान हुआ है.

नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक की रिपोर्ट को पढ़ते हुए याचिकाकर्ता सुब्रामण्यम स्वामी ने कहा था कि राजा ने 2जी स्पैक्ट्रम आबंटन में 'पहले आओ पहले पाओ' की नीति अपनाकर कुछ अयोग्य कंपनियों स्पैक्ट्रम दे दिया था.

संबंधित समाचार