वार्ता के ख़िलाफ़ भारतीय संसद के अंदर, बाहर दबाव: पाक

भारत और पाकिस्तान के झंडे
Image caption दोनों देशों के विदेश सचिवों की बैठक अगले महीने होनी है

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री यूसुफ़ रज़ा गिलानी ने कहा है कि भारत के साथ समग्र वार्ता शुरु होने की संभावना 50-50 है और ये किसी भी समय बहाल हो सकती है.

लाहौर में विदेशी मीडिया के पत्रकारों से बातचीत के दौरान उन्होंने ये विचार व्यक्त किए हैं.

महत्वपूर्ण है कि अगले महीने दोनों देशों के विदेश सचिवों के बीच बैठक होनी है.

बीबीसी उर्दू सेवा के अली सलमान के अनुसार प्रधानमंत्री गिलानी ने कहा कि उनकी जब भी भारत के प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से बातचीत होती है तो कश्मीर समेत सभी मसलों का हल बातचीत के ज़रिए खोजने पर उनका रवैया बहुत सकारात्मक दिखता है.

उनका कहना था, "लेकिन भारतीय संसद के अंदर और भारत में इसके (समग्र वार्ता दोबारा शुरु करने) ख़िलाफ़ ख़ासा दबाव रहता है."

प्रधानमंत्री गिलानी का कहना था कि भारत के साथ औपचारिक और अनौपचारिक कूटनीतिक प्रयास जारी हैं ताकि कश्मीर मुद्दे का शांतिपूर्ण तरीके से समाधान हो सके.

ग़ौरतलब है कि भारत के मुंबई महानगर में नवंबर 2008 में हुए हमलों के बाद से भारत-पाक समग्र वार्ता रुकी हुई है चाहे दोनों देशों के प्रतिनिधि विभिन्न जगहों पर कई बार एक दूसरे से मिले हैं.

संबंधित समाचार