'किसी को भी लाल चौक के पास नहीं आने दिया जाएगा'

लाल चौक
Image caption लाल चौक के चारो तरफ़ सुरक्षा के कड़े इंतज़ाम किए गए हैं.

भारत प्रशासित राज्य जम्मू-कश्मीर की राजधानी श्रीनगर के लाल चौक पर तिरंगा फहराने के लिए भारतीय जनता पार्टी के ज़रिए निकाली गई एकता यात्रा और अलगाववादी संगठन जेकेएलएफ़ का उसके जवाब में लाल चौक मार्च की घोषणा के मद्देनज़र वहां सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं.

वहां राज्य की पुलिस और अर्धसैनिक बल तैनात किए गए हैं.

लाल चौक

श्रीनगर से बीबीसी संवाददाता अल्ताफ़ हुसैन ने बताया कि किसी को भी लाल चौक आने नहीं दिया जा रहा है. यहां तक की पत्रकारों को भी उसके पास जाने की इजाज़त नहीं हैं. जिन पत्रकारों के पास विशेष पास मौजूद हैं उन्हें भी नहीं आने दिया जा रहा है.

सरकार ने वहां धारा 144 तो पहले से ही लगा रखी है लेकिन अभी के हालात को देखते हुए कहा जा सकता है कि वहां अघोषित कर्फ़्यू लगा दिया गया है.

अल्ताफ़ ने बताया कि केंद्रीय अर्धसैनिक बल सीआरपीएफ़ के महानिरिक्षक का दावा है कि लाल चौक पर किसी को भी नहीं आने दिया जाएगा, चाहे वो भाजपा कार्यकर्ता या समर्थक हों या फिर अलगाववादी संगठन के समर्थक.

भाजपा की एकता यात्रा के जवाब में अलगाववादी संगठन जेकेएलएफ़ ने लाल चौक मार्च की घोषणा की है. जबकि कट्टरपंथी नेता सैयद अली शाह गिलानी और कुछ दूसरे संगठनों ने इसे काला दिवस के रूप में मनाने की घोषणा करते हुए पूरे घाटी में बंद का आह्वान किया है.

पुलिस ने जेकेएलएफ़ के कई कार्यकर्ताओं को हिरासत में लिया है.

अल्ताफ़ हुसैन ने बताया कि मैसुमा में यासिन मलिक और उनके समर्थकों को पुलिस ने हिरासत में ले लिया है.

लालचौक से क़रीब एक किलोमीटर दूर स्थित ब्रॉडवे होटल से बाहर निकले भाजपा के छह कार्यकर्ताओं को भी पुलिस ने हिरासत में लिया है

जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग पर कश्मीर की तरफ़ जाने वाले वाहनों पर पूरी तरह से रोक लगा दी गई है.

अल्ताफ़ हुसैन ने कहा कि लाल चौक से लगभग एक किलोमीटर दूर बख़्शी स्टेडियम में गणतंत्र दिवस का समारोह मनाया जा रहा है जहां राज्य सरकार के एक मंत्री नें तिरंगा फहराया.

जबकि मुख्यमंत्री उमर अबदुल्ला ने जम्मू में तिरंगा फहराया .

इसी बीच मंगलवार को गिरफ़्तार किए गए वरिष्ठ भाजपा नेताओं को बुधवार की दोपहर रिहा कर दिया गया है. रिहा होने के बाद लोक सभा में नेता प्रतिपक्ष सुषमा स्वराज ने पत्रकारों से बातचीत के दौरान कहा कि एकता यात्रा 26 जनवरी को समाप्त होनी थी लिहाज़ा अब यात्रा समाप्त हो गई है.

भाजपा के वरिष्ठ नेता बाद में जम्मू में प्रेस वार्ता करेंगें.

उमर का न्योता

इससे पहले उमर अबदुल्ला ने वरिष्ठ भाजपा नेता अरूण जेटली से बात कर भाजपा नेताओं को गणतंत्र दिवस के सरकारी समारोह में शामिल होने की दावत दी थी लेकिन भाजपा ने उनकी इस अपील को ठुकरा दिया.

बीबीसी संवाददाता बीनू जोशी के अनुसार विधानसभा में विपक्ष के नेता चमन लाल ने बीबीसी को बताया कि उमर अबदुल्ला के न्योते का कोई मतलब नही है क्योंकि अभी तक भाजपा के सारे नेता गिरफ़्तार हैं.

उन्होने कहा कि भाजपा अपने तौर पर तिरंगा फहराने का कार्यक्रम करेगी और उनके समर्थक लाल चौक पर भी तिरंगा फहराने की कोशिश करेंगे.

इससे पहले मंगलवार शाम को जम्मू-कश्मीर में दाख़िल होते ही भाजपा के शीर्ष नेताओं को लगभग एक हजार समर्थकों के साथ पुलिस ने लखनपुर में गिरफ़्तार कर लिया.

एकता यात्रा

बीनू ने बताया कि मंगलवार शाम रावी नदी का पुल पार कर जम्मू-कश्मीर सीमा में क़दम रखते ही रैली का नेतृत्व कर रहे भाजपा युवा मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अनुराग ठाकुर व लोकसभा में नेता प्रतिपक्ष सुषमा स्वराज, राज्य सभा में विपक्ष के नेता अरूण जेटली, सांसद और भाजपा के महासचिव अनंत कुमार और हिमाचल प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शांता कुमार को उनके हज़ारों कार्यकर्ताओं और समर्थकों के साथ गिरफ्तार कर लिया गया.

उन्हें कठुआ जिला पुलिस लाइंस ले जाया गया और लखनपुर के निकट हॉलमार्क होटल में रखा गया है.

मंगलवार को ही हवाई जहाज़ से श्रीनगर जाने की कोशिश कर रहे प्रो. चमन लाल समेत भाजपा के आठ अन्य विधायकों को भी जम्मू में हिरासत में ले लिया गया था.

इसके अलावा दिल्ली से श्रीनगर पहुंचे जम्मू-कश्मीर भाजपा के तीन विधायकों व भाजपा युवा मोर्चा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष पवन कुमार को भी पुलिस ने हवाई अड्डे पर ही रोक लिया.

भाजपा युवा मोर्चा ने ऐलान किया था कि कोलकाता से शुरू हुई राष्ट्रीय एकता संकल्प रैली का समापन 26 जनवरी को लाल चौक पर तिरंगा फहराकर किया जाएगा.

संबंधित समाचार