असम: वन्यजीव कार्यकर्ताओं का पता नहीं

असम (फाइल चित्र)
Image caption अपहरण से कुछ घंटों पहले ही बोडो चरमपंथियों ने घोषणा की थी कि वो अपनी गितिविधियां तेज़ करेंगें.

असम में सुरक्षाबलों के व्यापक अभियान के बावजूद वर्ल्ड वाइल्ड लाइफ फंड' (डब्ल्यूडब्ल्यूएफ़) के लापता छह कार्यकर्ताओं का पता नहीं चल पाया है.

पुलिस ये भी नहीं बता पा रही है कि असम के किस विद्रोही गुट ने इन्हें अग़वा किया है.कुछ अज्ञात बंदूकधारियों ने असम के मानस राष्ट्रीय उद्यान से

डब्ल्यूडब्ल्यूएफ़ के छह कार्यकर्ताओं को सोमवार को अग़वा कर लिया था.

डब्ल्यूडब्ल्यूएफ़ वन्यजीवों के अधिकारों के लिए काम करने वाली संस्था है. सभी कार्यकर्ता डब्लूडब्लूएफ के प्रतिनिधियों के तौर पर इस इलाके में हाथियों और बाघों की गिनती के काम से जुड़े थे और एक ग़ैर सरकारी संगठन के साथ मिलकर काम कर रहे थे.

अग़वा किए गए लोग पूर्वोत्तर राज्यों से हैं जिनमें तीन पुरुष और तीन महिलाएँ हैं.ग़ैर सरकारी संगठन के दो लोगों को भी पकड़ा गया था लेकिन इन्हें बाद में छोड़ दिया गया.

असम सरकार के एक अधिकारी ने कहा है कि भूटान को अपहरण के बारे में बता दिया गया है और अग़वा हुए लोगों को ढूँढने में भूटान से मदद मांगी गई है.

कई ग़ैर सरकारी संस्थाओं ने अपील की है कि अग़वा लोगों को छोड़ दिया जाए.

असम में बोडो गुट ने सोमवार को घोषणा की थी कि वो अलग राज्य की अपनी माँग के लिए अभियान दोबारा शुरु कर रहा है. ये अपहरण इस घोषणा के कुछ घंटों के बाद हुआ है.

संबंधित समाचार